Facebook Twitter instagram Youtube
शरब-और-उचच-रकतचप-क-मध

शराब और उच्च रक्तचाप के मध्य की सच्चाई

उच्च रक्तचाप को जीवनशैली से जुड़ी बीमारी कहा जाता है। यह स्थिति हमारीवर्क हार्ड- पार्टी हार्डपीढ़ी में एक आम दृश्य बन गया है, जिसके अनुसार कठिन परिश्रम कर कार्य सफलता से उच्च पुरस्कार मिलते हैं- बिना इस बात पर ध्यान दिए कि ऐसी जीवनशैली का किसी के शारीरिक स्वास्थ्य पर कितना दुष्परिणाम पड़ सकता है। 

 

शराब, आमतौर पर तनाव निवारक दवा के रूप में काम में लिया जाता है परंतु यह लंबे समय के सेवन से आपको फायदे देने की बजाय नुकसान पहुंचा सकती है और संभवतः कई जीवनशैली संबंधी बीमारियों जैसे उच्च रक्तचाप का कारण बन सकती है। शराब के साथ बीपी के जटिल संबंध के बारे में अधिक जानने के लिए पढ़ें और जानें कि अगली बार जब आप शराब पीने लगें तो आप कैसे इसके स्थान पर बेहतर विकल्प अपना सकते हैं। 

 

क्या वास्तव में कम मात्रा में शराब के सेवन से दिल स्वस्थ रहता है? 

 

लोग अक्सर नए अध्ययन (शराब के कथित चिकित्सीय लाभों) का हवाला देकर अपनी शराब पीने की आदतों को वैध बनाने की कोशिश करते हैं। हालाँकि, मामले की सच्चाई का अंतर, सूक्ष्म स्तर पर मौजूद होता है। शराब और उच्च रक्तचाप के बीच का संबंध सैकड़ों वर्षों से गहन अध्ययन का विषय रहा है, जिसकी शुरुआत फ्रांसीसी चिकित्सकों जैसे लियान के विभिन्न लेख से हुई थी, जिन्होंने 1900 के दशक में अपने लेख में लिखा था कि कई लीटर वाइन का दैनिक सेवन करने वाले नाविक उच्च रक्तचाप से कैसे पीड़ित पाए गए। 

 

तब से आधुनिक चिकित्सा विज्ञान के अध्ययन मनुष्य के हृदय पर पॉलीफेनोल्स (रेड वाइन में मौजूद रसायन) के परिसंचरण लाभों का विश्लेषण करके शराब के सकारात्मक प्रभावों का अध्ययन करने पर केंद्रित हुए हैं। हालाँकि, बड़ी बात यह है कि शराब का अत्यधिक सेवन, वास्तव में, कई मनोसामाजिक और स्वास्थ्य समस्याओं जैसे उच्च रक्तचाप को जन्म दे सकता है और इसके कथित लाभ आमतौर पर सहायक जीवनशैली लाभों के कारण होते हैं जो शराब के सेवन से संबंधित नहीं होते हैं।

 

रेड वाइन के स्वास्थ्य लाभ 

 

लाल वाइन से जुड़े कुछ स्वास्थ्य लाभों में हृदय रोग का कम जोखिम, सूजन और कैंसर में कमी, साथ ही लम्बा जीवनकाल शामिल है। दुर्भाग्य से, हृदय स्वास्थ्य के लिए लाल वाइन को एक चमत्कारिक पेय के रूप में मानना बड़ी मिथ्या है। इन अध्ययनों में जो स्वास्थ्य लाभ के साथ रिश्ता दर्ज किया गया है, उसका कारण अन्य जीवनशैली कारकों जैसे कम नमक का आहार, उचित वजन और व्यायाम के कारण हो सकता है, कि वाइन के सेवन के कारण। 

 

लाल वाइन का विज्ञान 

 

अंगूर में कई प्रकार के एंटीऑक्सीडेंट जैसे रेस्वेरेट्रॉल और प्रोएंथोसायनिडिन्स मौजूद होते हैं जिन्हें लाल वाइन के संबंधित स्वास्थ्य लाभों के लिए उत्तरदायी माना जाता है। रेस्वेरेट्रॉल नामक एंटीऑक्सीडेंट तकनीकी रूप से हृदय रोग के जोखिम कम होने के संबंध में जुड़ाव देखा गया है। हालांकि, लाल वाइन में रेस्वेरेट्रॉल की मात्रा बहुत कम होती है अतः किसी भी वास्तविक स्वास्थ्य लाभ को प्राप्त करने के लिए इसकी विशेष मात्रा (कुछ बोतलों के अतिरिक्त सेवन) का सेवन करना आवश्यक हो जाता है। (जिसकी हम सलाह नहीं देते हैं

 

आपको अपने जीवनशैली और आनुवंशिक जोखिम कारकों पर भी नज़र रखनी चाहिए क्योंकि परिवार में शराब की लत या हृदय या लिवर रोग के पारिवारिक इतिहास जैसे कारणों से बिल्कुल भी शराब नहीं पीना चाहिए। 

 

यहाँ बड़ी बात यह है कि अगर आपको कोई वंशानुगत समस्या नहीं है, तो एक ग्लास लाल वाइन (महिलाओं के लिए) या दो ग्लास (पुरुषों के लिए) का सेवन प्रतिदिन ठीक हो सकता है। लेकिन, साथ ही साथ लाल वाइन के सामान्य सेवन से जुड़े स्वास्थ्य लाभ नियमित सेवन को उचित नहीं ठहराते क्योंकि वाइन में मिलने वाली एल्कोहल की मात्रा एंटीऑक्सीडेंट के लाभ को कमजोर कर देती है। 

 

क्या अत्यधिक शराब आपके रक्तचाप (बीपी) पर असर डालती है?

 

अधिक मात्रा में शराब पीने से आपका रक्तचाप का स्तर बढ़ सकता है। जितना अधिक शराब का सेवन, उतना ही रक्तचाप बढ़ता है। दिन में तीन या उससे अधिक ग्लास शराब पीने से उच्च रक्तचाप का खतरा लगभग दोगुना हो जाता है। यह रिश्ता आम तौर पर तब भी बना रहता है, जब आप अन्य कारकों को ध्यान में रखते हैं, जिनमें आयु, वजन (या शरीर मास इंडेक्स), सोडियम और पोटैशियम सेवन, सिगरेट सेवन, और इसके दुष्परिणामों के बारे में शिक्षा शामिल हैं। यदि आपको उच्च रक्तचाप की समस्या है, तो आपका डॉक्टर आपको शराब कम पीने की सलाह दे सकते हैं।

 

शराब से संबंधित चेतावनी

 

अगर आप शराब का सेवन करते हैं, तो आपको कुछ बातें अपने ध्यान में रखने की आवश्यकता होती है, जिनमें शामिल हैं:

  • अत्यधिक और अनाप-शनाप शराब पीना कभी भी अच्छा विचार नहीं होता है। एक बार में तीन से अधिक ग्लास पीने से बचें क्योंकि इससे आपका रक्तचाप गंभीर रूप से बढ़ सकता है। 
  • शराब के सेवन से संबंधित यह नियम तब खासतौर पर महत्वपूर्ण हो जाता है जब आप उच्च रक्तचाप की समस्या से ग्रसित हो। यह नियन्त्रण नियम आपके बीपी को कुछ मिलीमीटर तक कम करने में मदद कर सकता है। (सिस्टोलिक: 2-4 मिमी/एचजी, डायस्टोलिक 1-2 मिमी एचजी)
  • यदि आप उच्च रक्तचाप के नियंत्रण की दवाएँ का सेवन कर रहे हैं, तो शराब का सेवन करें, क्योंकि इससे खतरनाक दुष्प्रभाव हो सकते हैं।
  • विभिन्न प्रयोगों में यह पाया गया है कि शराब का उच्च रक्तचाप का प्रभाव सामान्यतः शराब का सेवन रोकने के  कई दिनों के भीतर कम हो जाता है। शराब के सेवन और रक्तचाप के बीच संबंध शक्तिशाली सबसे ज्यादा तब होता है जब शराब पिछले 24 घंटों में पी गई है। 
  • शराब का सेवन आपको वजन बढ़ने और उच्च रक्तचाप के खतरे को बढ़ने के लिए भी ज़िम्मेदार होता है।

 

निष्कर्ष 

 

अतः सारांश यह है कि एक दिन में दो से अधिक ड्रिंक पीने से आपका रक्तचाप बढ़ सकता है और लंबे समय में खतरनाक जटिलताओं जैसे स्ट्रोक का कारण भी बन सकता है। हमारी यह सलाह है कि पुरुषों को 65 साल की उम्र तक एक दिन में दो से अधिक ड्रिंक का सेवन नहीं करना चाहिए, उसके बाद इसकी मात्रा को घटाकर एक दिन का एक ड्रिंक कर देना चाहिए (एक ड्रिंक का मतलब मोटे तौर पर 355 मिली बीयर, 148 मिली वाइन या 44 मिलीमीटर डिस्टिल स्पिरिट का सेवन होता है)

 

This blog is a Hindi version of an English-written Blog - The Truth About Alcohol and Hypertension

Medanta Medical Team
Back to top