Facebook Twitter instagram Youtube
रमटइड-आरथरइटस-क-10-सइलट-लकषण-जनक-कई-नटस-नह-करत

रूमेटाइड आर्थराइटिस के 10 साइलेंट लक्षण जिनको कोई नोटिस नहीं करता

रूमेटाइड आर्थराइटिस एक प्रकार का ऑटोइम्यून विकार है जो तब होता है जब व्यक्ति की प्रतिरक्षा प्रणाली गलती से शरीर के स्वस्थ ऊतकों पर हमला करना शुरू कर देती है।

 

ऑस्टियोआर्थराइटिस (जो जोड़ों के टूट-फूट के कारण होता है) के विपरीत, रुमेटीइड आर्थराइटिस जोड़ों की परत को प्रभावित करता है, जिससे दर्दनाक सूजन और जलन हो सकती है। धीरे-धीरे इस रोग के कारण हड्डियों में क्षय और जोड़ों में नुक़सान होने लग जाता है। अधिकांश लोगों को गठिया के कारण होने वाली हड्डियों और जोड़ों के स्वास्थ्य में गिरावट के बारे में पता हो सकता है, परंतु वे यह नहीं जानते कि रूमेटाइड आर्थराइटिस शरीर के अन्य अंगों को भी नुकसान पहुंचा सकता है।

 

नीचे रूमेटाइड आर्थराइटिस के 10 छिपे हुए संकेत और लक्षण बताये हैं जिन्हें अक्सर अनदेखा कर दिया जाता है:

 

फेफड़ों के स्वास्थ्य पर असर 

 

रूमेटाइड आर्थराइटिस की सबसे आम एक्स्ट्रा-आर्टिकुलर जटिलताओं में से एक फेफड़ों का खराब स्वास्थ्य होता है। जिन लोगों में उच्च रुमेटीक फैक्टर उपस्थित होता है या जो धूम्रपान करते हैं, उनमें रुमेटीइड आर्थराइटिस के कारण कोई ना कोई फेफड़ों की बीमारी विकसित होने का जोखिम अधिक होता है। कुछ आम फेफड़ों की बीमारी निम्नलिखित हैं:

  • इंटरस्टिशीयल लंग डिजीस (ILD): यह स्थिति तब उत्पन्न होती है, जब फेफड़ों में सूजन आती है, जिसके परिणामस्वरूप फेफड़ों में ऊतकों का निर्माण होना शुरू हो जाता है जिससे सांस लेने में परेशानी होती है।
  • फाइब्रोसिस: पल्मोनरी फाइब्रोसिस की स्थिति में आपके फेफड़ों के ऊतकों को नुकसान पहुंचता है   और वह कठोर हो जाते हैं । ये कठोर ऊतक आपके फेफड़ों के कार्य में मुश्किल पैदा करते हैं, जिससे फलस्वरूप आपको सांस लेने में दिक़्क़त हो सकती है।
  • रूमेटाइड नोड्यूल: रुमेटीइड नोड्यूल छोटी-छोटी गांठें होती हैं जो फेफड़ों के साथ-साथ शरीर के किसी भी हिस्से में भी पैदा हो सकती हैं। यदि फेफड़ों में बना रूमेटाइड नोड्यूल फट जाता है, तो इसके कारण फेफड़ों के कॉलेप्स होने का जोखिम बढ़ जाता है।

 

मानसिक स्वास्थ्य पर असर 

 

रूमेटाइड आर्थराइटिस आपके दैनिक जीवन और कामकाज पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। यह आपके कार्य करने की गति को धीमा कर सकता है और आपको वह काम करने से भी रोक सकता है जो आप पहले आराम से करते थे या जिसे करने में आपको आनंद आता था। इससे आप असंतोष, निराशा और क्रोध की भावना महसूस कर सकते हैं। यह अवसाद, तनाव और चिंता को भी जन्म दे सकता है।

 

पाचन-संबंधित समस्याएँ 

 

रूमेटाइड आर्थराइटिस की वजह से आपके पाचन तंत्र में सूजन उत्पन्न हो सकती है। इसके साथ-साथ एक कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली और विभिन्न दवाओं के असर सब एक साथ मिलकर, आपको अल्सर, दस्त, कब्ज, इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम (आईबीएस) और रक्तस्राव जैसे गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्थितियों के लक्षण होने की संभावना अधिक हो सकती है। इसके कारण आप कुछ खाद्य पदार्थों के प्रति अधिक संवेदनशील भी हो सकते हैं।

 

थकान 

 

रूमेटाइड आर्थराइटिस में नियमित से ज़्यादा थकान महसूस होती है। इसमें आपको यह भी महसूस हो सकता है कि आपको फ्लू है, और रात की अच्छी और पूरी नींद आपको तरोताजा महसूस कराने के लिए पर्याप्त नहीं है और आप सुबह से ही थका हुआ महसूस करते हैं।  अत्यधिक थकावट का यह एहसास रूमेटाइड आर्थराइटिस के साथ पैदा हुई अन्य स्थितियां  जैसे अवसाद और नींद की कमी के कारण भी हो सकती है। यह आपको इस बीमारी के उपचार में दी गई दवाओं का दुष्प्रभाव भी हो सकता है।

 

अत्यधिक पसीना आना 

 

अक्सर रूमेटाइड आर्थराइटिस में फ्लू जैसे लक्षण महसूस हो सकते हैं, जिसके कारण आपको अत्यधिक थकान और पसीना सकता है। आपके शरीर की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया के कारण हल्का बुखार और पसीने के लक्षण हो सकते हैं, जैसे कि फ्लू-वायरस में लक्षण दिखते हैं।

 

धीमी रिकवरी

 

रूमेटाइड आर्थराइटिस से होने वाली सूजन आपके इम्यून सिस्टम को कमजोर कर सकती है, जिससे आपके शरीर को विभिन्न संक्रमणों और बीमारियों से लड़ने के लिए दोगुनी मेहनत करनी पड़ती है। तो इससे आपको सामान्य सर्दी जैसी साधारण सी समस्या से उबरने में सामान्य से अधिक समय लग सकता है। 

 

पकड़ कमजोर होना 

 

रूमेटाइड आर्थराइटिस आपकी हड्डियों और जोड़ों पर असर करता है और उन्हें कमजोर करता है, ख़ासकर यह आपकी कलाई और उंगलियों के जोड़ों को प्रभावित करता है। यह सूजन आपकी कुछ सामान्य ज़रूरी गतिविधियाँ जैसे छोटी वस्तुओं को पकड़ना, जार खोलना या लिखने या टाइप करना मुश्किल बना सकती हैं।

 

शुष्क मुँह और मसूड़ों की बीमारी

 

यदि रूमेटाइड आर्थराइटिस आपकी लार ग्रंथियों को प्रभावित है, तो इससे शुष्क मुँह या ज़ेरोस्टोमिया नामक स्थिति हो सकती है। इस स्थिति में आपकी लार ग्रंथियाँ आपके मुँह की नमी बनाए रखने के लिए पर्याप्त लार का उत्पादन नहीं कर पाती। यदि इस स्थिति को अनुपचारित छोड़ दिया जाए तो इससे मसूड़ों की बीमारी या दाँत खराब भी हो सकते हैं।

 

जोड़ों में दर्द और जकड़न

 

रूमेटाइड आर्थराइटिस की वजह से आपके जोड़ों में दर्द और अकड़न पैदा हो सकती है, चाहे आपने उन्हें थोड़ी देर के लिए ही नहीं हिलाया हो। इसे गेलिंग प्रभाव कहा जाता है, यह एक ऐसी स्थिति होती है जो तब उत्पन्न होती है जब आपके जोड़ लंबे समय तक निष्क्रिय रहते हैं, जिससे कारण साईंनोवियल द्रव (आपके जॉइंट कैविटी में पाया जाने वाला तरल पदार्थ जो जोड़ों के बीच में घर्षण को रोकता है) गाढ़ा हो जाता है और आराम करने के बाद आपके जोड़ों की गतिविधि में दिक़्क़त पैदा करता है। 

 

इसीलिए, डॉक्टर रूमेटाइड आर्थराइटिस से ग्रसित लोगों को इसके लक्षणों को नियंत्रित करने के लिए नियमित, हल्का व्यायाम करने की सलाह देते हैं।

 

बार-बार बीमार पड़ना 

 

आपने यह नोटिस किया होगा कि आप बहुत जल्दी-जल्दी बीमार पड़ते हैं, ऐसा इसलिए होता है क्योंकि रूमेटाइड आर्थराइटिस के कारण आपका इम्यून सिस्टम कमजोर हो गया है। इसकी वजह से आपको किसी बीमारी से उबरने में भी अधिक समय लगता हैं, और इसके साथ-साथ रूमेटाइड आर्थराइटिस की दवा लेने के दौरान आप संक्रमण और अन्य बीमारियों के प्रति अधिक संवेदनशील भी हो जाते हैं। 

 

रूमेटाइड आर्थराइटिस ना केवल आपके शारीरिक बल्कि आपके मानसिक स्वास्थ्य को भी प्रभावित करता है, हालांकि, अगर इसका शुरुआती चरणों में पता चल जाता है, तो रूमेटोइड आर्थराइटिस को आसानी से मैनेज किया जा सकता है। 

Medanta Medical Team
Back to top