Facebook Twitter instagram Youtube
कय-समनय-सरद-और-जक

क्या सामान्य सर्दी और जुकाम के उपचार के लिए एंटीबायोटिक्स आवश्यक हैं?

सामान्य सर्दी, भारतीयों में एक सर्वव्यापी समस्या देखी गई है। हम में से कई अपनी सामान्य सर्दी के इलाज के लिए घरेलू नुस्ख़ों पर जितना भरोसा करते हैं, वहीं हम में से कुछ लोग एंटीबायोटिक दवाओं की ओर रुख़ करते हैं, इस उम्मीद में कि यह हमें जल्द ही ठीक कर देगा। 

 

सामान्य सर्दी का क्या कारण होते हैं? 

हम सभी के लिए सर्दी के लक्षण जैसे कि बहती नाक, गले में खराश, साइनस संक्रमण, सिरदर्द, बंद नाक, या एक अस्वस्थ भावना का महसूस होना, नए नहीं है।

सामान्य सर्दी एक वायरल संक्रमण होता है जो मुख्यतः व्यक्ति के ऊपरी श्वसन मार्ग को प्रभावित करता है। सीडीसी (डिजीजीटल संचार निगरानी और निवारण केंद्र) के अनुसार, एक वयस्क एक साल में कम से कम 2-3 बार सामान्य सर्दी, जिसे एक्यूट वायरल राइनोफरिंजाइटिस या एक्यूट कोरायज़ा भी कहा जाता है, से प्रभावित हो सकता है, जबकि बच्चे सर्दी से एक साल में अधिकतम 12 बार प्रभावित हो सकते हैं।

सामान्य सर्दी के मुख्य कारण में कोरोनावायरस या राइनोवायरस का संक्रमण होता है।

चूँकि सामान्य सर्दी के अधिकतम 200 प्रकार के वायरस होते हैं, अतः आपका शरीर कभी भी उन सभी वायरस प्रकार के लिए प्रतिरोधकता विकसित नहीं कर सकता है। और यह दुनिया में सबसे सामान्य स्थितियों में से एक है। 

 

सामान्य सर्दी के लक्षण कितने समय तक रहते हैं? 

सामान्य सर्दी की स्थिति आम तौर पर लगभग 7-10 दिनों तक रहती है और कुछ लोगों में यह 2 सप्ताह तक भी रह सकती है। यह समय आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली और धूम्रपान और शराब पीने जैसे अन्य जीवनशैली कारकों पर निर्भर करता है जो उपचार प्रक्रिया को बाधित कर सकते हैं। 

अधिकांशतः आपका शरीर स्वयं ही किसी भी संक्रमण से लड़ता है। लेकिन यदि फिर भी लक्षण बने रहते हैं, तो आपको तुरंत अपने डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

 

क्या आपको सामान्य सर्दी या फ्लू है? 

सामान्य सर्दी और फ्लू के लक्षण एक जैसे होते हैं जो अक्सर भ्रमित करते हैं। हालाँकि, सामान्य सर्दी का पहला लक्षण गले में खराश, जुकाम, और नाक बहना है। 

वही फ्लू में सामान्य सर्दी के साथ बुखार, शरीर में दर्द, ठंड लगना और पसीने के लक्षण महसूस होते हैं। 

 

क्या एंटीबायोटिक्स दवाइयाँ सामान्य सर्दी को ठीक करने में सहायक होते हैं? 

कोक्रेन कोलैबरेशन नामक एक अंतरराष्ट्रीय शोध नेटवर्क के शोधकर्ताओं के अनुसार सामान्य सर्दी के इलाज में एंटीबायोटिक्स की कोई अहम भूमिका नहीं होती है। 

 

एंटीबायोटिक्स क्या हैं? 

एंटीबायोटिक्स बैक्टीरिया और फंगल संक्रमण से लड़ने के लिए विकसित की गई नई दवाएँ हैं। ये दवाइयाँ वायरल संक्रमण पर काम नहीं करती हैं, इसलिए सामान्य सर्दी के लक्षणों में कोई राहत नहीं मिलती हैं। 

यदि सामान्य सर्दी बैक्टीरियल संक्रमण के कारण होता है, तब एंटीबायोटिक्स लक्षणों से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं। लेकिन एंटीबायोटिक्स अक्सर कई दुष्प्रभाव पैदा करते हैं, अतः इनके उपयोग से पहले इनके फायदे और नुकसान के बारे में विचार करना चाहिए।

 

एंटीबायोटिक्स के क्या दुष्प्रभाव होते हैं? 

एंटीबायोटिक्स आपके शरीर में उपस्थित प्राकृतिक अच्छे और बुरे बैक्टीरिया की संरचना में असंतुलन पैदा कर सकते हैं। एंटीबायोटिक्स के सबसे आम दुष्प्रभाव निम्नलिखित हैं

  • मतली, उल्टी और गंभीर दस्त
  • योनि (vagina) में संक्रमण
  • नर्व में क्षति 
  • टेंडन का फटना 
  • प्राण-घातक एलर्जी प्रतिक्रियाएँ 

जल्दी ठीक होने और राहत पाने के लिए एंटीबायोटिक दवाओं के अत्यधिक उपयोग से एंटीबायोटिक प्रतिरोधी बैक्टीरिया उत्पन्न हो सकते हैं। जो ड्रग-रेसिस्टेंट संक्रमण और अन्य गंभीर चिकित्सीय जटिलताओं का कारण बन सकते हैं। 

 

आपको एंटीबायोटिक्स की आवश्यकता कब होती है? 

एंटीबायोटिक्स बैक्टीरियल संक्रमण के मामलों में लक्षणों से राहत देने और संक्रमण को ठीक करने के लिए बेहतर काम करते हैं जैसे:

  • बैक्टीरियल निमोनिया
  • गले का संक्रमण
  • काली खांसी (पर्टुसिस)
  • एक साइनस संक्रमण जो 7 दिनों से अधिक समय तक बना रहता है 

एंटीबायोटिक दवाओं का सेवन तभी करना चाहिए जब आपका चिकित्सक इसे लिख कर दे।

 

एंटीबायोटिक्स सभी प्रकार के संक्रमणों का जवाब नहीं होता है

भारत एंटीबायोटिक दवाओं के उपयोगकर्ताओं में सबसे अग्रणीय है और इसका अत्यधिक उपयोग बड़े पैमाने पर देखा जाता है। हालाँकि एंटीबायोटिक दवाओं के दुरुपयोग की समस्या वैश्विक स्थिति है, लेकिन यह भारत जितनी गंभीर कहीं भी नहीं देखी गई है। खराब बुनियादी स्वास्थ्य ढांचे, एंटीबायोटिक दवाओं की बिना रोकटोक बिक्री, बड़े पैमाने पर ओवर--काउंटर दवाई की उपलब्धता, और बीमारी के उच्च स्तर, एंटीबायोटिक-रेसिस्टेंट सुपरबग के उत्पन्न होने के लिए आदर्श स्थितियां पैदा की हैं। 

संयुक्त राष्ट्र ने एंटीमिक्रोबियल-रेजिस्टेंस (एएमआर) को इबोला और एचआईवी जितनी गंभीर स्थिति माना है। इसीलिए अब एंटीबायोटिक दवाओं के प्रिस्क्रिप्शन और बिक्री पर कड़े नियमों की मांग बढ़ रही है। 

 

सामान्य सर्दी का उपचार 

सामान्य सर्दी के लक्षणों से राहत पाने के लिए घरेलू नुस्ख़ों का इस्तेमाल करें। हालाँकि, यदि ये लक्षण एक सप्ताह से अधिक समय तक बने रहते हैं, तो आपको अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए और अपनी सही जाँच करवानी चाहिए। नीचे सामान्य सर्दी के इलाज के 5 सरल घरेलू तरीके बताए हैं

  • अदरक की चाय: अदरक की चाय गले की खराश और बहती नाक के लिए चमत्कारी पेय मानी जाती हैं। यह बहती और टपकती नाक को सूखने, श्वसन पथ से बलगम को बाहर निकालने और आपके नाक के मार्ग को साफ करने में मदद करता है। 
  • गुनगुना पानी: गर्म पानी गले में उपस्थित सूजन को कम करने में सहायता करता है और आपके शरीर से संक्रमण को बाहर निकालने में भी मदद करता है, साथ ही खोए हुए तरल पदार्थ की आपूर्ति भी करता है। 
  • टीकाकरण: इन सामान्य संक्रमणों से बचाव के लिए कम से कम एक बार डिप्थीरिया, टेटनस या काली खांसी (DPT) का टीका लगवाएं। 
  • ओरल डिकंजेस्टेन्ट और नेज़ल स्प्रे: नाक की असुविधा के लिए, अपने डॉक्टर से लक्षणों से राहत प्राप्त करने के लिए नेज़ल स्प्रे लिखने के लिए कहें। 
  • स्वच्छता बनाए रखें: अपने हाथों को बार-बार धोएँ, खासकर बाहर से आने के बाद और विशेष रूप से खाने से पहले। अपनी दवाएँ साझा करने से बचें या किसी ऐसे व्यक्ति के साथ शारीरिक संपर्क में आने से बचें जो पहले से ही सर्दी से प्रभावित हो, क्योंकि सामान्य सर्दी एक संक्रामक बीमारी है, जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकती है। 

सामान्य सर्दी और अन्य संक्रमणों को होने से रोकने के लिए, सुनिश्चित करें कि आप विटामिन सी, संपूर्ण खाद्य पदार्थ और ताजी सब्जियों से भरपूर स्वस्थ आहार का सेवन करें।

 

This blog is a Hindi version of an English-written Blog -Are Antibiotics Necessary for the Common Cold?

Medanta Medical Team
Back to top