Facebook Twitter instagram Youtube
रढ-क-वकरत-spine-curvature-वकर

रीढ़ की वक्रता (Spine Curvature) विकारों को समझना

रीढ़ की हड्डी, जिसे आमतौर पर पीठ की हड्डी कहा जाता है, कई छोटी हड्डियों (जिन्हें कशेरुक कहा जाता है) के समूह से बनी होती है। एक स्वस्थ रीढ़ की हड्डी में कई कोमल घुमाव या वक्र होते हैं जो गुरुत्वाकर्षण और शरीर की विभिन्न गतिविधियों से होने वाले तनाव को अवशोषित करने में मदद करते हैं। रीढ़ की हड्डी की असामान्यताएँ इसकी वक्रता के गलत संरेखण (misalignment) का कारण बनती हैं और इसके परिणामस्वरूप लॉर्डोसिस, किफोसिस और स्कोलियोसिस जैसे रीढ़ वक्रता संबंधी विकार उत्पन्न हो सकते हैं। 

 

रीढ़ की हड्डी में वक्रता विकार (Curvature disorder) के प्रकार 

 

रीढ़ की वक्रता विकारों के तीन मुख्य प्रकार निम्नलिखित हैं

  • लॉर्डोसिस: यह एक ऐसी स्थिति है, जिसमें प्रभावित व्यक्ति की रीढ़ की हड्डी पीठ के निचले क्षेत्र में अंदर की ओर झुक जाती है। इसे स्वेबैक (swayback) भी कहते है। 
  • कुब्जता (Kyphosis): कायफोसिस के कारणवश पीठ का ऊपरी हिस्सा गोलाई ले लेता है (50 डिग्री से अधिक वक्रता) 
  • मेरुवक्रता (Scoliosis): स्कोलियोसिस से पीड़ित व्यक्ति की रीढ़ की हड्डी में एस-आकार या सी-आकार का वक्र जाता है।

 

रीढ़ की हड्डी में वक्रता विकार कैसे उत्पन्न होते हैं? 

ऐसी कई स्वास्थ्य समस्याएँ होती हैं जिनके कारण कर्वेचर विकार उत्पन्न होते हैं, जिनमें शामिल हैं

 

लॉर्डोसिस के कारण:

  • ऐकोन्ड्रोप्लेजिया, एक स्थिति जिसमें व्यक्ति में हड्डियों का असामान्य विकास होता है, जिससे बौनेपन (dwarfism) से जुड़ी कम ऊंचाई देखी जाती है।
  • स्पॉन्डिलोलिस्थेसिस, यह एक ऐसी स्थिति है, जिसमें पीठ के निचले हिस्से में एक वर्टीब्रा आगे की ओर खिसक जाती है।
  • ऑस्टियोपोरोसिस, एक स्थिति जिसमें कशेरुकाएँ कमज़ोर हो जाती हैं और वे आसानी से टूट सकती हैं (कम्प्रेशन फ्रैक्चर्स)
  • मोटापा, या अत्यधिक वजन होना
  • कायफोसिस, एक स्थिति जिसके कारण ऊपरी पीठ गोल हो जाती है
  • डिस्काइटिस, एक रीढ़ की हड्डी से संबंधित स्थिति जिसका कारण संक्रमण होता है। इससे पीठ की हड्डियों के बीच मौजूद डिस्क वाले स्थान में सूजन जाती है।
  • बिनाइन (हानिरहित) जुवेनाइल लॉर्डोसिस 

 

कायफोसिस के कारण:

  • गर्भ में विकास के दौरान असामान्य कशेरुकाओं का विकास (जन्मजात कायफोसिस)
  • बैठते समय ख़राब मुद्रा या झुकना (पोस्टुरल कायफोसिस)
  • श्यूरमैन बीमारी, एक ऐसी स्थिति जिसके कारणवश कशेरुकाओं का आकार विकृत हो जाता है (श्यूरमैन कायफ़ोसिस)
  • आर्थराइटिस 
  • ओस्टियोपोरोसिस 
  • स्पाइना बिफिडा, एक जन्मजात दोष होता है जिसमें गर्भ के अंदर विकास के समय भ्रूण की रीढ़ की हड्डी पूरी तरह से बंद नहीं होती है
  • स्पाइन संक्रमण 
  • स्पाइन ट्यूमर 

 

स्कोलियोसिस के कारण:

डॉक्टरों को अभी तक किशोरों में देखे जाने वाले सबसे आम प्रकार के स्कोलियोसिस कर्वेचर डिसऑर्डर के सटीक कारण का पता नहीं चला है। हालाँकि, अक्सर इसे पारिवारिक इतिहास से जोड़ कर देखा जाता है। कोई चोट, जन्म दोष या संक्रमण भी इसका एक कारण हो सकता है।

 

रीढ़ की हड्डी में वक्रता विकार के लक्षण

लॉर्डोसिस के लक्षण निम्नलिखित हैं:

  • स्वेबैक होने के साथ-साथ, नितंब अधिक स्पष्ट दिखाई देते हैं 
  • किसी कठोर सतह पर पीठ के सहारे लेटने पर पीठ के निचले हिस्से और सतह के बीच एक बड़ा फ़ासला महसूस होना
  • पीठ में दर्द और असहजता अनुभव होना 
  • कुछ विशेष तरह से चलने में समस्या आना  

 

कायफोसिस के लक्षण स्वाभाविक होते हैं और इसमें शामिल हैं

  • शरीर के तुलना में सिर का आगे की ओर झुकना
  • ऊपरी पीठ में एक कूबड़ या वक्रता उपस्थित होना 
  • पीठ या पैरों में थकान महसूस होना 
  • पोस्चरल कायफोसिस के कारण आमतौर पर पीठ दर्द नहीं होती है; हालांकि, शारीरिक गतिविधियों और लंबे समय तक खड़े रहने और बैठने से श्यूरमैन कायफोसिस वाले लोगों में असहजता या दर्द महसूस हो सकता है।

 

स्कोलियोसिस के लक्षणों में मुख्यतः शामिल हैं:

  • असमान कंधे के ब्लेड
  • अनुपातहीन कमर या कूल्हा
  • एक ओर झुकाव 

 

रीढ़ की वक्रता विकारों के लिए उपचार के विभिन्न तरीके 

डॉक्टर उपचार योजना आपके रीढ़ की हड्डी में वक्रता विकार की गंभीरता और प्रकार के आधार पर निर्धारित करते हैं। रीढ़ की हड्डी में हल्की वक्रता का इलाज नहीं किया जा सकता है। डॉक्टर अधिक गंभीर रीढ़ की हड्डी की वक्रता डिसऑर्डर के लिए बैक ब्रेस या सर्जरी की सलाह दे सकते हैं।

लॉर्डोसिस के उपचार योजना में शामिल हैं:

  • स्पाइन में दर्द और सूजन को नियंत्रित करने के लिए दवाएँ
  • मांसपेशियों की ताकत और लचीलापन बढ़ाने के लिए व्यायाम और फ़िज़ियोथेरेपी 
  • बैक ब्रेस पहनना
  • वजन को कम करना
  • सर्जरी

 

कायफोसिस के उपचार योजना में शामिल हैं:

  • दर्द को नियंत्रित करने के लिए विभिन्न व्यायाम और दवाएँ
  • बैक ब्रेस पहनना
  • सर्जरी
  • मांसपेशियों की ताकत बढ़ाने के लिए व्यायाम और फ़िज़ियोथेरेपी

 

स्कोलियोसिस के उपचार योजना में शामिल हैं:

  • निगरानी: यदि आपके हल्की वक्रता है, तो हर चार से छह महीने में डॉक्टर से फॉलो-अप की सलाह दी जाती है। यह आपको समझने में मदद करेगा कि क्या यह स्थिति गंभीर हो रही है और क्या इसमें ओर चिकित्सीय ध्यान देने की आवश्यकता है या नहीं।
  • ब्रेसिंग: वक्रता के डिग्री के आधार पर, बच्चों के लिए जिनमें विकास अभी भी हो रहा है, उनमें एक पीठ की ब्रेसिंग की सलाह दी जाती है। ब्रेसिंग करने से वक्रता के बिगड़ने की प्रक्रिया को रोकने में मदद मिलती है।
  • सर्जरी: यदि वक्रता गंभीर हो और लगातार बढ़ रही हो, तो सर्जरी द्वारा इसे सही किया जा सकता है।
  • बॉडी कास्टिंग: एक तरीका आमतौर उन युवा बच्चों के लिए सुझाया जाता है जिनकी स्कोलियोसिस समय के साथ बढ़ती जा रही हो। आगे की वक्रता को रोकने के लिए कंधों से नीचे की कमर को कास्ट कर दिया जाता है। 

 

रीढ़ की वक्रता विकारों के इलाज के लिए कौन सी सर्जरी का उपयोग किया जाता है? 

रीढ़ की वक्रता डिसऑर्डर के उपचार में निम्नलिखित प्रक्रियाओं का उपयोग किया जा सकता है:

  • स्पाइनल इन्स्ट्रुमेंटेशन 
  • कृत्रिम डिस्क प्रतिस्थापन
  • काइफोप्लास्टी

रीढ़ की वक्रता विकारों के इलाज के लिए शल्य चिकित्सा की जाने वाली प्रकार के विवरण के लिए अपने चिकित्सक से परामर्श करें।


This blog is a Hindi version of an English-written Blog - Understanding Spine Curvature Disorders

Medanta Medical Team
Back to top