Facebook Twitter instagram Youtube
नतर-कसर-सकत-लकषण-और-करण

नेत्र कैंसर: संकेत, लक्षण और कारण

भारत में नेत्र कैंसर एक दुर्लभ चिकित्सकीय  स्थिति है, जो सभी शारीरिक कैंसर का लगभग 0.3-0.4% हिस्सा है। भारत में सभी आंखों के कैंसर का 70-80% भाग वयस्कों में देखा गया है। 

 

बच्चों और बड़ों में नेत्र कैंसर क्या है?

 

आँखों का कैंसर अधिकतर आपकी आंखों के बाहरी हिस्से, जैसे पलकें, को प्रभावित करता है। इंट्राओकुलर कैंसर नेत्रगोलक के अंदर शुरू होता है। वयस्कों में सबसे आम इंट्राओकुलर नेत्र कैंसर इंट्राओकुलर मेलेनोमा और इंट्राओकुलर लिम्फोमा देखे गये हैं। बच्चों में आंखों के कैंसर का सबसे आम प्रकार रेटिनोब्लास्टोमा होता है जो कि रेटिना की कोशिकाओं में शुरू होता है। 

 

आँखों में कैंसर कोशिकाओं की उत्पत्ति के आधार पर, आपके डॉक्टर उपयुक्त उपचार का सुझाव देते हैं।अन्य सभी तरह के कैंसर की तरह नेत्र कैंसर का भी अगर शुरुआती स्टेज में निदान हो जाए तो इसका सफलतापूर्वक इलाज किया जा सकता है।

 

इंट्राओकुलर नेत्र कैंसर कितने प्रकार के होते हैं?

 

कैंसर कोशिकाओं की उत्पत्ति के स्थान के आधार पर, नेत्र कैंसर को प्राथमिक (primary) और द्वितीयक (secondary) कैंसर में वर्गीकृत किया जा सकता है। प्राथमिक इंट्राओकुलर कैंसर आंख के भीतर ही विकसित होता है। प्राथमिक इंट्राओकुलर कैंसर के दो मुख्य प्रकार वयस्कों में इंट्राओकुलर मेलेनोमा और बच्चों में रेटिनोब्लास्टोमा हैं। द्वितीयक इंट्राओकुलर कैंसर या मेटास्टेटिक कैंसर शरीर के अन्य भागों से उत्पन्न होता है और धीरे-धीरे आंखों में फैलता है। यह ख़ासकर के फेफड़ों के कैंसर और स्तनों के कैंसर से उत्पन्न हो सकता है। 

 

नेत्र कैंसर होने के क्या कारण हैं?

 

हालाँकि, नेत्र कैंसर होने के सटीक कारण का अभी तक पता नहीं चला है, लेकिन विभिन्न अध्ययनों से यह पता चला है कि कुछ द्वितीयक नेत्र कैंसर शरीर के अन्य जगहों के कैंसर से उत्पन्न हो सकते हैं। हालांकि, कुछ ऐसे जोखिम कारक होते हैं जो आपकी आंखों में और उसके आसपास के क्षेत्र में कैंसर कोशिकाओं के विकास के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं, जिनमें से कुछ मुख्य निम्नलिखित हैं:

  • आँखों का रंग: गहरे रंग की आईरिस वाले लोगों की तुलना में हल्के रंग की आँखों वाले लोगों में यूवेल मेलानोमा (आईरिस का कैंसर) होने का खतरा ज़्यादा होता है।
  • उम्र और लिंग: आंखों का कैंसर पुरुषों में महिलाओं की तुलना में होने का ख़तरा अधिक होता है। यह किसी भी उम्र में विकसित हो सकता है, परंतु उम्र बढ़ने के साथ इसका जोखिम बढ़ता जाता है।
  • इनहेरिटेड मेडिकल कंडीशन: कुछ चिकित्सीय स्थितियाँ जैसे डिस्प्लास्टिक नेवस सिंड्रोम (मल्टीपल इनहेरिटेड मेलानोमा), ओकुलोडर्मल मेलानोसाइटोसिस या नेवस ऑफ़ ओटा (यूविआ पर असामान्य भूरे रंग के धब्बे, आपकी आईरिस पर पिगमेंट की परत), या बीएपी1 कैंसर सिंड्रोम, आंखों के कैंसर के जोखिम कारक में शामिल हैं।
  • मोल (mole): आँखों या त्वचा पर विभिन्न प्रकार के तिल (नेवी) होने पर यूवीआ आई मेलेनोमा के होने का जोखिम अधिक होता है।

 

नेत्र कैंसर के अन्य जोखिम कारकों में सूर्य के अत्यधिक संपर्क, रेडिएशन से संपर्क, और कैंसर के पारिवारिक इतिहास शामिल हो सकते हैं।

 

नेत्र कैंसर के संकेत और लक्षण क्या होते हैं?

 

आमतौर पर आँखों के कैंसर में शुरुआत में कोई लक्षण महसूस नहीं होते हैं, जिसके कारण ये अधिकतर नज़रअंदाज़ हो जाते हैं। हालांकि, यदि आप नीचे दिए गए संकेत और लक्षणों में कोई भी महसूस करते हैं, तो तुरंत अपने नेत्र रोग विशेषज्ञ से संपर्क करें:

  • आई फ्लोटर्स या आई फ्लैश
  • धुंधली दृष्टि, छवि के चारों तरफ़ हेलो और छाया दिखना, विशेष रूप से उज्ज्वल प्रकाश दिखना 
  • आँख के सफेद हिस्से पर एक गहरा तिल (mole) जो आकार में बढ़ जाता है और इसके चारों ओर रक्त वाहिकाओं को बड़ा कर देता है जिससे गुस्सा करते समय की छवि दिखती है, या इस तिल में से खून भी बह सकता है।
  • दृष्टि में कमी के साथ आँखों में दर्द होना 
  • एक आँख या दोनों का बाहर निकलना (प्रॉपटोसिस) अनुभव होना 
  • आपकी पलक पर या आपकी आँख में एक गांठ या ट्यूमर होना, जो आकार में बढ़ रहा है, रक्त वाहिकाओं को भी शामिल कर रहा होता है
  • आईरिस के रंग में परिवर्तन

 

बच्चों में ध्यान देने योग्य संकेत और लक्षण

 

  • आँख के मध्य भाग में सफेद रंग दिखना 
  • अचानक आंखें अलग-अलग दिशाओं में देखने लगती हैं
  • आंखों में लाली और सूजन
  • अत्यधिक टीयर होना 

 

नेत्र कैंसर के कुछ मुख्य तथ्य जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए

 

  • नेत्र कैंसर के उपचार के विभिन्न विकल्पों में लेजर थेरेपी, सीमित शोधन, इंट्रवेनस कीमोथेरेपी और रेडिएशन थेरेपी शामिल हैं।
  • नेत्र कैंसर एकमात्र जानलेवा ओकुलर रोग है जिसमें जीवित रहने की दर कम होती है। सौभाग्य से, भारत में ऑक्यूलर कैंसर के 80% मामले ठीक हो जाते हैं यदि बीमारी का पता शुरुआती स्टेज में चल जाए।
  • नेत्र कैंसर का सबसे आम कारण व्यावसायिक खतरे की उपस्थिति है। इसीलिए रासायनिक उद्योग या वेल्डिंग फैसिलिटी में काम करने वाले व्यक्तियों  को सुरक्षात्मक चश्मे का उपयोग करना चाहिए।

 

विटामिन युक्त आहार लेना और यूवी-रोकने वाले चश्मे पहनना जो आंखों के चारों ओर सुरक्षात्मक तरीके से लपटे रहते हैं, अन्य प्रिवेंटिव कदम हैं जिन्हें आप आंखों के कैंसर से बचाव के लिए उपयोग में ले सकते हैं।

Medanta Medical Team
Back to top