Facebook Twitter instagram Youtube
डसलकसय-बचच-म

डिस्लेक्सिया: बच्चों में डिस्लेक्सिया के 5 लक्षण जो हर माता-पिता को ज्ञात होने चाहिए

डिसलेक्सिया एक सीखने की क्षमता से संबंधी दोष होता है जो किसी व्यक्ति की मौखिक और लिखित भाषा को प्रभावित करती है जिससे उसे शब्दों और/या अंकों को समझने या पढ़ने में कठिनाई होती है। इस स्थिति के कारण विशेष रूप से छोटे बच्चों के लिए स्कूल के एक सामान्य शैक्षणिक वातावरण में निर्देशों का पालन करना चुनौतीपूर्ण हो जाता है।

 

यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि यह स्थिति कोई बीमारी नहीं है। यह डिसलेक्सिक व्यक्ति की बुद्धि या सीखने की इच्छा पर कोई असर नहीं डालता है जो उनमें सामान्य या उच्च भी हो सकती है।

 

डिसलेक्सिया क्या होता है?

 

डिसलेक्सिया एक आजीवन चलने वाली स्थिति होती है जिसका कारण इस बात पर निर्भर करता है कि व्यक्ति का दिमाग एक शब्द के भीतर अलग-अलग भाषण ध्वनियों की पहचान करने के बारे में जानकारी संसाधित और संग्रहित करता है, और सीखता है कि विभिन्न अक्षर इन ध्वनियों का प्रतिनिधित्व कैसे करते हैं। हालांकि, विशेष और उपयुक्त शिक्षण विधियाँ और पर्याप्त भावनात्मक समर्थन एक डिसलेक्सिक बच्चे को स्कूल में और स्कूल के बाद में एक वयस्क के रूप में सफलता प्राप्त करने में सहायता कर सकते हैं। इसीलिए, एक बच्चे के डिसलेक्सिया का शुरुआती चरणों में मूल्यांकन करने से बड़ा लाभ हो सकता है।

 

डिसलेक्सिया का प्रभाव व्यक्ति से व्यक्ति में भिन्न हो सकता है और व्यक्ति के जीवन के विभिन्न चरणों में भी अलग-अलग हो सकता है, लेकिन इसके लक्षण प्री-स्कूल आयु में पहचाना जा सकता है। यदि आपके बच्चे में सीखने में कठिनाइयाँ दिखाई देती हैं, वह डिसलेक्सिक हो सकता है, तो नीचे पांच आम संकेत बताए गए हैं हैं जिनको आप ध्यान में रख सकते हैं:

  • वाणी का देर से विकास दिखना  - डिस्लेक्सिक बच्चा वाणी के विकास की अपेक्षित उम्र से देर से बात करना शुरू कर सकता है। उसे नई शब्दावली समझने, वर्णमाला के अक्षरों को याद करने या दौहराने, या सरल तुकबंदी करने में भी दिक़्क़त सकती है।
  • पढ़ने में समस्या आना  - डिस्लेक्सिक बच्चों को उन शब्दों और अक्षरों को बोलने में ज्यादा कठिनाई होती है, जिन्हें वे देखते हैं और इसलिए वे अपनी कक्षा के अन्य बच्चों की तुलना में पढ़ने और पाठ को समझने में धीमे होते हैं। उनके लिए यह सामान्य है कि वे परिचित शब्दों में अक्षरों को गलत उच्चारण करें या मिला दें, जैसे कि 'और', ‘कौन', या 'अब' कोतब' से भ्रमित हो सकते हैं। डिसलेक्सिक बच्चा किसी भी प्रकार के पढ़ने से कतराता है, और कक्षा में उच्च आवाज में पढ़ने से बचने के तरीके भी ढूँढता है, क्योंकि यह उसके लिए पैदा होने वाली चिंता से निपटने का एक तरीका होता है। ऐसे बच्चों को एक साधारण कहानी या कविता की घटनाओं के अनुक्रम को पुनः याद करने में कठिनाई महसूस होती है और वह इसे संक्षेप में प्रस्तुत करने में असमर्थता महसूस कर सकता है। डिस्लेक्सिक बच्चों को पढ़ने या लिखने के साथ जुड़े होमवर्क को पूरा करने में बहुत ज्यादा समय लगता है।
  • संख्याओं को समझने में कठिनाई - जब डिसलेक्सिक बच्चा प्राथमिक विद्यालय में प्रवेश करता है, तो उसे नंबर अनुक्रमों का पालन करने में कठिनाई हो सकती है; और जोड़, घटाव, गुणा और भाग के अंकगणितीय प्रतीक उसे भ्रमित कर सकते हैं। रंगों के नाम, सप्ताह के दिन, या महीनों के नाम को याद करने, और समय बताना सीखना भी चुनौतीपूर्ण कार्य हो सकता है।
  • एक से अधिक निर्देशों का पालन करने में असमर्थता - डिसलेक्सिक स्थिति वाले बच्चों में स्कूल में उनके खराब पढ़ने और समझने के कौशल के कारण दूसरे छात्रों से अलग-थलग रहना आम बात होती है। इसके अलावा, डिसलेक्सिक बच्चा बहु-चरणीय निर्देशों का पालन नहीं कर पाता है, 'बाएं' या 'दाएं' दिशाओं के निर्देश, एक मानचित्र, सामान्य होमवर्क, सामान्य आदतों के दिशानिर्देशों या घर पर छोटे कर्तव्यों को निभाने में कठिनाई हो सकती है। उसे वर्तनी लिखने, तथ्यों को याद करने में कठिनाई होती है और इसके कारण बच्चा वास्तविक रूप में कुछ समझने के बिना जानकारी को याद करना पसंद करता है।
  • अस्पष्ट लेखन - डिसलेक्सिक बच्चों को पेंसिल सही ढंग से पकड़ने में कठिनाई महसूस होती है और विराम चिन्हों और व्याकरण नियमों को याद करना चुनौतीपूर्ण कार्य हो सकता है। इसके फलस्वरूप उनकी लिखाई अस्पष्ट होती है और उन्हें कार्यों या कक्षा परीक्षाओं को पूरा करने में दूसरों के मुक़ाबले अधिक समय लगता है। सामान्य या उच्च बुद्धि होने के बावजूद, डिसलेक्सिक बच्चों को बात करते समय 'सही' शब्द को ढूंढने में कठिनाई हो सकती है, या सामान्य सवालों के उत्तर बनाने में दिक़्क़त सकती है।
  • सामान्यतः प्री-स्कूल शिक्षक डिसलेक्सिया वाले बच्चों में पठन और समझने की समस्याओं का पहला पता लगा सकते हैं। यदि आपके बच्चे का विद्यालय के दौरान व्यवहार में उपरोक्त संकेतों में से कोई लक्षण दिखाई देते हैं, तो तुरंत डॉक्टर से परामर्श करें, जो फिर आगे के टेस्ट के लिए आपको सलाह देंगे।

 

यह महत्वपूर्ण है कि आप विद्यालय और चिकित्सा विशेषज्ञों के साथ मिलकर काम करें ताकि आपके डिसलेक्सिक बच्चे को किंडरगार्टन के चरणों और स्कूल के पहले और दूसरे वर्षों में ध्वनिकी (phonetics) शिक्षा में विशेष समर्थन और प्रशिक्षण प्राप्त हो सके। इससे यह सुनिश्चित होगा कि जब वह प्राथमिक और उच्च शिक्षा में जाएगा, तो उसको कम समस्याओं का सामना करना पड़ेगा।

 

This blog is a Hindi version of an English-written Blog - Dyslexia: 5 Signs Of Child Dyslexic Every Parent Should Read

Medanta Medical Team
Back to top