Facebook Twitter instagram Youtube
कन-क-सकरमण-इसक-बर-म

कान का संक्रमण: इसके बारे में सब कुछ जो आपको जानना आवश्यक है

कान हमारे सुनने की प्रणाली का एक महत्वपूर्ण भाग होते हैं। दूसरे शरीर के अंगों की तरह, कान भी संक्रमण से प्रभावित हो सकते हैं।

 

कान के संक्रमण का मुख्य कारण बैक्टीरियल और वाइरल संक्रमण हो सकते हैं। ये संक्रमण बाहरी, मध्य (कान के परदे के ठीक पीछे का हिस्सा) और आंतरिक कान के किसी भी भाग को शामिल कर सकते हैं।

 

अधिकांश कान के संक्रमण स्वयं ही ठीक हो जाते हैं। कभी-कभी कान के संक्रमण से तरल के इकट्ठा होने और सूजन आने के कारण दर्द हो सकता है।

 

कान के संक्रमण के प्रकार

 

लक्षणों की अवधि के आधार पर, कान के संक्रमण को इस प्रकार बांटा जा सकता है:

  • एक्यूट कान के संक्रमण: ये कान के संक्रमण कम अवधि के होते हैं लेकिन इसके कारण कान में दर्द हो सकता है।
  • क्रॉनिक कान के संक्रमण: जब कान का संक्रमण ठीक नहीं होता है या बार-बार होते रहते हैं तो दीर्घकालिक संक्रमण कहलाते हैं। गंभीर स्थितियों में क्रॉनिक कान के संक्रमण कान के मध्य और आंतरिक भाग को स्थायी क्षति भी पहुँचा सकते हैं।

 

कैसे पता चलता है कि आपको कान में संक्रमण हुआ है?

 

कान के संक्रमण के कुछ सामान्य लक्षण निम्नलिखित हैं:

  • कान के अंदर असहजता या हल्के दर्द का अनुभव
  • कान के अंदर दबाव या भारीपन महसूस होना 
  • कान से स्राव निकलना 
  • सुनने की क्षमता में कुछ मात्रा में कमी

 

कभी-कभी ये लक्षण समय के साथ कम या हमेशा के लिए बने रह सकते हैं। एक व्यक्ति को कान में संक्रमण के लक्षण एक या दोनों कानों में महसूस हो सकते हैं। 

 

संक्रमण दोनों कानों में मौजूद होने पर लक्षणों की तीव्रता अधिक हो सकती है। इसके अलावा, क्रॉनिक कान के संक्रमण में लक्षणों की तीव्रता कम होती है।

 

बच्चों में कान के संक्रमण होने पर ऊपर बताये लक्षणों के अलावा कुछ अतिरिक्त लक्षण भी दिख सकते हैं, जैसे कि:

  • बुखार
  • वे लगातार अपने कानों को रगड़ या खींच रहे हों
  • कुछ ध्वनियों पर प्रतिक्रिया करना
  • बार-बार संतुलन खोना
  • सिरदर्द
  • बेचैनी
  • एनोरेक्सिया या भूख में कमी या भूख लगना

 

धिकांश कान के संक्रमण कुछ दिनों में स्वयं ठीक हो जाते हैं, लेकिन कुछ संक्रमण एक सप्ताह से अधिक समय तक भी मौजूद रह सकते हैं।

 

यदि आपके बच्चे (जो छह महीने से कम आयु के हैं) को कान के संक्रमण हैं, तो तुरंत डॉक्टर से इसे दिखाएं। यदि आपके बच्चे को 102°F से अधिक बुखार हो या कान में तेज दर्द हो, तो तत्काल चिकित्सीय सहायता लें।

 

कान के संक्रमण के कारण और जोखिम कारक क्या होते हैं?

 

कान के संक्रमण के कारणों में विभिन्न बैक्टीरिया (सबसे आमतौर पर स्ट्रेप्टोकॉकस न्यूमोनिया) और वायरस (सबसे मुख्य हैमोफिलस इंफ्लुएंजा) शामिल होते हैं। ये संक्रमण आमतौर पर कान की यूस्टेशियन ट्यूब के अवरोध से उत्पन्न होते हैं। यूस्टेशियन ट्यूब्स छोटी नलिकाएँ होती हैं जो आपके कान और गले के पीछे के हिस्से को जोड़ती हैं। यूस्टेशियन ट्यूब्स में अवरोध से मध्य कान में तरल बनने लगता है।

 

कई कारणों की वजह से आपकी यूस्टेशियन ट्यूब ब्लॉक हो सकती है, जैसे कि:

  • सर्दी
  • एलर्जी
  • साइनसाइटिस
  • अतिरिक्त म्यूकस का उत्पादन
  • तंबाकू का धूम्रपान
  • हवा के दबाव में परिवर्तन

 

कान के संक्रमण का एक और कारण संक्रमित एडेनोइड हो सकते हैं। एडेनोइड ग्रंथि नाक के पीछे मुँह की छत पर मौजूद होती हैं। एडेनोइड ग्रंथि विभिन्न संक्रमणों से हमें सुरक्षा देती हैं। लेकिन कभी-कभी, एडेनोइड ग्रंथि में संक्रमण पास के यूस्टेशियन ट्यूब्स में फैल सकते हैं और कान के संक्रमण का कारण बन सकते हैं।

 

कान के संक्रमण के जोखिम कारक क्या हो सकते हैं?

  • उम्र: ज्यादातर कान के संक्रमण छोटे बच्चों में होते हैं। इसका मुख्य कारण यूस्टेशियन ट्यूब के आकार और संरचना में विभिन्नता होती है। बच्चों में यूस्टेशियन ट्यूब छोटी और संकरी होती है जो तरल पदार्थों की वजह से अवरोध के लिए अतिसंवेदनशील होती हैं। 
  • बोतल से दूध पीने वाले शिशुओं में स्तनपान करने वाले शिशुओं की तुलना में कान में संक्रमण होने की संभावना ज़्यादा होती है। 
  • ऊंचाई, तापमान और आर्द्रता में बदलाव के कारण 
  • सिगरेट के धुएँ के संपर्क में आने पर 
  • नवीन संक्रमण 
  • पुरुष होना 
  • कम वजन वाले जन्मे शिशु 

 

कान के संक्रमण की संभावित जटिलताएँ क्या हो सकती हैं?

 

हालांकि यह दुर्लभ है, परंतु कभी-कभी कान के संक्रमण गंभीर समस्याएँ उत्पन्न कर सकते हैं, जैसे कि:

  • सुनने में कमी आना 
  • बच्चों में बोलने, भाषा या अन्य विकासात्मक देरी 
  • स्कल की मैस्टॉयड हड्डी में संक्रमण (मैस्टॉइडाइटिस)
  • मस्तिष्क और  रीढ़ की हड्डी की झिल्लियों में संक्रमण (मेनिंजाइटिस)
  • कान के परदे का फटना 

 

मैं कान के संक्रमण को कैसे नियंत्रित कर सकता हूँ?

 

अधिकांश कान में संक्रमण बिना किसी उपचार के स्वयं ही ठीक हो जाते हैं।

 

कान के संक्रमण के लक्षणों को नियंत्रित करने के कुछ उपचार विकल्प निम्नलिखित हैं:

  • घरेलू नुस्ख़े: - हल्के कान के संक्रमण के लक्षणों को कम करने में कुछ घरेलू उपचार असरदार साबित हो सकते हैं, इनमें से कुछ निम्न हैं:
  1. प्रभावित कान पर गर्म कपड़ा रखें
  2. दर्द को कम करने के लिए ईयर ड्राप डालें
  3. नाक संक्रमण को ठीक करने के लिए डिकंजेस्टेंट 
  • चिकित्सीय उपचार: - अगर कान के संक्रमण के लक्षण बढ़ते हैं, तो तुरंत अपने डॉक्टर से सलाह लें। अगर यह एक बैक्टीरियल संक्रमण है, तो आपका डॉक्टर इसके उपचार के लिए एंटीबायोटिक्स लिख कर दे सकता है। बच्चों के लिए, डॉक्टर प्रतीक्षा करने की सलाह दे सकता है और लक्षणों पर नज़र रखता है, ताकि असामयिक एंटीबायोटिक उपयोग से बचा जा सके।
  • सर्जरी: - यदि चिकित्सा उपचार से आराम नहीं मिल रहा है, तो आपका डॉक्टर ईयर ट्यूब सर्जरी या मायरिंगोटोमी का सुझाव दे सकता है।

 

मुझे ईएनटी विशेषज्ञ से कब सलाह लेनी चाहिए?

 

बच्चों में कान के संक्रमण के लक्षणों की करीबी मॉनिटरिंग महत्वपूर्ण होती है। अगर आपके बच्चे में निम्नलिखित लक्षण दिखायी दे रहे हैं तो आपको तुरंत ईएनटी विशेषज्ञ से सलाह लेनी चाहिए:

  • 102.2°F से अधिक बुखार
  • कान से पानी या तरल स्राव 
  • मौजूदा लक्षणों का बिगड़ना 
  • तीन से अधिक दिनों तक लक्षण रहना 
  • सुनने में कमी आना 

एक वयस्क में, यदि आपको लक्षण 2 से 3 दिन से अधिक समय तक दिखाई देते हैं, जिसमें दर्द और बुखार भी शामिल हैं, तो आपको ईएनटी विशेषज्ञ से परामर्श करना चाहिए।

 

कान के संक्रमण के नैदानिक परीक्षण क्या होते हैं?

 

आपके ईएनटी विशेषज्ञ पहले आपके लक्षणों की पूरी जानकारी लेंगे। उसके बाद वह आपके कानों की जाँच करेंगे, जिसमें एक रोशनी और आवर्धक कांच वाले यंत्र शामिल होते हैं। इस यंत्र को ऑटोस्कोप कहा जाता है और जाँच के दौरान यह निम्नलिखित लक्षणों का पता लगा सकता है:

  • लालिमा
  • हवा के बुलबुले
  • मध्य कान में मवाद जैसा तरल पदार्थ की उपस्थिति 
  • मध्य कान से स्राव 
  • कान के पर्दे में छेद, उभार, या कॉलेप्स हो जाना 

 

कान के संक्रमण के निदान के लिए निम्न अतिरिक्त परीक्षण शामिल हो सकते हैं:

  • कान से निकलने वाले तरल का नमूना: यदि आपके कान का संक्रमण उपचार के प्रति रिस्पांस नहीं दिखा रहा है, तो डॉक्टर आपके कान से तरल का नमूना ले सकता है। इस परीक्षण द्वारा संक्रमण के कारक बैक्टीरिया का पता लगाने में मदद कर सकता है, जिससे डॉक्टर को सर्वोत्तम एंटीबायोटिक उपचार तय करने में सहायता मिल सकती है।
  • कम्प्यूटर टोमोग्राफी या सीटी स्कैन: आपके ईएनटी विशेषज्ञ सीटी हेड परीक्षण करवाने की सलाह दे सकते हैं, ताकि मध्य कान तक संक्रमण की सीमा को देखा जा सके।
  • रक्त परीक्षण: डॉक्टर आपकी प्रतिरक्षा क्षमता की जांच के लिए रक्त परीक्षण की सलाह दे सकते हैं।
  • टाइम्पेनोमेट्री: इससे डॉक्टर को आपके कान के अंदर हवा दबाव में परिवर्तन के लिए आपके कान के परदे की प्रतिक्रिया को मापने में मदद मिलती है। 
  • एकॉस्टिक रिफ्लेक्टोमीटरी: यह परीक्षण आपके कान के पर्दे से परावर्तित ध्वनि की मात्रा को मापता है। इसके फलस्वरूप आपके कान में उपस्थित द्रव की मात्रा का पता चलता है।
  • हियरिंग टेस्ट 

 

मैं कान में संक्रमण होने से कैसे रोक सकता हूँ?

 

कान के इन्फेक्शन को रोकने के लिए कुछ सरल टिप्स निम्नलिखित हैं:

  • हाथों की सफाई का ध्यान रखें 
  • भीड़ भरी जगहों में जाने से बचें
  • शिशुओं को स्तनपान ही कराएँ
  • धूम्रपान छोड़ें
  • धूम्रपान के संपर्क में आने से बचें
  • निर्धारित सूची के अनुसार सभी प्रतिरक्षात्मक टीकाकरण प्राप्त करें

 

निष्कर्ष 

 

बैक्टीरिया और वायरस आपके मध्य कान (कान के पर्दे के पीछे का भाग) में संक्रमण का मुख्य कारण हो सकते हैं। यह संक्रमण अधिकांशतः तीन दिन के भीतर स्वयं ही ठीक हो जाते हैं। कभी-कभी आपके डॉक्टर आपको लक्षणों को नियंत्रित करने के लिए एंटीबायोटिक लेने की सलाह दे सकते हैं। दो वर्ष से कम आयु के बच्चे संरचनात्मक कारकों के कारण कान के संक्रमण के प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं। यदि आपके बच्चे में तीव्र दर्द, उच्च बुखार और कान से द्रव्य निकलने के लक्षण दिखायी दे रहे हो तो तत्काल ईएनटी विशेषज्ञ से परामर्श करें।

Dr. Arulalan M
ENT (Ear,Nose,Throat)
Meet The Doctor
Back to top