Facebook Twitter instagram Youtube
एंडोस्कोपी कराने जा रहे हैं? समझें कि यह कैसे काम करता है।

एंडोस्कोपी कराने जा रहे हैं? समझें कि यह कैसे काम करता है।

शब्द एंडोस्कोपी दो ग्रीक शब्दों के जोड़ से उत्पन्न हुआ है (एंडो = अंदर, और स्कोप = जाँचने या देखने), जो पूरी तरह से यह बताते हैं कि यह क्या है, जिसका मतलब है 'अंदर देखना' यह एक जाँच प्रक्रिया है जिसमें आपके शरीर के अंदर की जाँच करने के लिए एंडोस्कोप उपकरण का उपयोग किया जाता है। यह उपकरण एक लंबी, पतली लचीली ट्यूब होती है, जिसके एक सिरे पर प्रकाश स्रोत और कैमरा लगा होता है। यह चिकित्सा टीम द्वारा जाँच करने के लिये छवियाँ लेता है, जो इसे एक मॉनिटर पर प्रस्तुत करता है।

 

एंडोस्कोपी आपके शरीर के विभिन्न अंगों की जा सकती है और उसके आधार पर उसका नामकरण है, जैसे कि कोलोनोस्कोपी, गैस्ट्रोस्कोपी, ब्रोंकोस्कोपी, सिस्टोस्कोपी और अन्य। हर मामले में, यह चिकित्सक को शरीर के विशेष हिस्से की विस्तृत छवि प्रदान करती है।

 

डॉक्टर दो कारणों के लिए किसी निश्चित एंडोस्कोपी की सलाह देते हैं- जब उन्हें कुछ मरीज़ द्वारा बताए गए लक्षणों की जाँच करनी हो या जब उनको सर्जरी करने में मदद की आवश्यकता होती है।

 

इंवेस्टिगेटिव एंडोस्कोपी की सलाह तब दी जाती है जब आपको निगलने में दिक़्क़त हो रही हो, या कोई क्रॉनिक बीमारियाँ जैसे पेट में दर्द, मतली और दस्त, खांसी में खून, उल्टी, मूत्र या मल में काफ़ी समय से खून आना, यूरिनरी इनकॉन्टिनेंस, और योनि से खून बहने के मामलों में सलाह दी जाती है।

 

सर्जिकल एंडोस्कोपी डॉक्टर को पथरी और फाइब्रॉइड्स को हटाने, टूटी हुई जोड़ों के अंदर मरम्मत में, हर्निया, और ब्लीडिंग अल्सर की मरम्मत करने, ट्यूमर्स या कैंसर से प्रभावित अंगों को हटाने, और स्टेंट डालने जैसे प्रक्रिया की अनुमति देता है।

 

एंडोस्कोपी कैसे काम करती है?

 

एंडोस्कोप को शरीर में एक प्राकृतिक द्वार जैसे कि मुँह, गला, और गुदा के माध्यम से आपके शरीर में प्रवेश कराया जा सकता है। सर्जिकल उपयोग के मामले में, इसे त्वचा में चीरा लगाकर एक छिद्र बनाकर भी डाला जा सकता है।

 

एक सामान्य एंडोस्कोप में दो से तीन ऑप्टिकल केबल मौजूद होते हैं, जिनमें से एक और कभी-कभी दो केबल शरीर में लाइट को ले जाते हैं, और आखिरकार इच्छित स्थल पर पहुँचते हैं। दूसरा केबल डॉक्टर द्वारा पकड़े गए आईपिस के पास प्रतिबिंबित लाइट को वापस ले जाता है, जो मॉनिटर पर ओर आवर्धित कर दिखाया जाता है।

 

प्रौद्योगिकी में हुई प्रगति के साथ, एंडोस्कोप अपने शुरुआती लक्ष्य से अधिक गोल प्राप्त कर चुकी है। कुछ मामलों में, वे आगे की जांच (बायोप्सी) के लिए थोड़ा सा ऊतक को भी अलग करने में मदद करते हैं। वे कुछ मामूली, न्यूनतम इनवेसिव सर्जरी भी कर सकते हैं। यह एंडोस्कोप के अंदर जाने वाले हिस्से में कुछ क्षमताओं को सक्षम करके किया जाता है।

 

लेकिन यह सब कुछ शायद एक पुराने दिनों की बात हो जाए, क्योंकि अब चिकित्सा जगत में वाई-फाई एंडोस्कोप का आगमन देखा जा रहा है। इस प्रक्रिया के लिए रोगी एक गोली खाते हैं और फिर उसे पेशाब करते समय उसे बाहर निकाल देते हैं। इस गोली में वाई-फाई प्रसारण की क्षमता होती है जो डॉक्टरों की आवश्यकतानुसार आंतरिक दृश्य प्रदान करने में सक्षम होती है।

 

एंडोस्कोपी प्रक्रिया के दौरान मेरे साथ क्या होगा?

 

आपको चिंता करने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि यह प्रक्रिया दर्दनाक या असुरक्षित बिलकुल नहीं होती है। इसके अंत में, आपको कुछ हल्की असहजता हो सकती है और डॉक्टरों द्वारा दी गई दवाओं के आधार पर कुछ उनींदापन भी हो सकता है। पर यह कुछ घंटों में दूर हो जाएगा।

 

प्रक्रिया से पूर्व: एंडोस्कोपी के लिए तैयार होने के लिए, जान लें कि इस प्रक्रिया के लिए एक साफ पेट की आवश्यकता होती है, जिसमें कोई अप्रत्याशित रासायनिक असंतुलन हो। इसका मतलब है कि आपको प्रक्रिया से लगभग 8 घंटे पहले से ही उपवास करना होगा। यदि आप खून पतला करने वाली दवा लेते हैं, तो प्रक्रिया से 2 से 3 दिन पहले उन्हें बंद कर दिया जाएगा। डॉक्टर को आपके द्वारा लेने वाली किसी अन्य दवाओं के बारे में भी सूचित करें। कोलोनोस्कोपी के लिए, कोलन से मल को साफ करने के लिए एक दिन पहले एक पेट साफ़ करने वाली दवा (laxative) दी जा सकती है।

 

प्रक्रिया के दौरान: अस्पताल या क्लिनिक में, रिलैक्स रहें। डॉक्टर आपको या तो एक सोने की दवा देंगे या स्थानी एनेस्थीसिया देंगे। इससे यह प्रक्रिया दर्दरहित हो जाएगी। एंडोस्कोपी करने में कुल समय 30 मिनट से 1 घंटा के बीच लग सकता है।

 

प्रक्रिया के बाद: एंडोस्कोपी के बाद, आपको रिकवरी क्षेत्र में बैठने या लेटने के लिए कहा जाएगा। चिकित्सा टीम आपको किसी असामान्यता के लिए कुछ समय मॉनिटर करेगी और आपके एनेस्थीसिया के नशे का प्रभाव कम होने तक प्रतीक्षा करेगी। इसके बाद फिर भी सलाह दी जाती है कि आप एक परिवार के सदस्य या दोस्त को साथ लेकर आएं और आपको अकेले यात्रा नहीं करनी चाहिए।

 

हालाँकि अब प्रौद्योगिकी काफी अग्रणी हो चुकी है और तकनीशियन भी माहिर हो चुके हैं, फिर भी कभी-कभी केबल के अंदर जाने या बाहर आने के कारण अंदरूनी परत मामूली छिल सकती है। यह स्वतः ठीक हो जाती है और कभी-कभी डॉक्टर आपको एंटीबायोटिक लिख कर दे सकते हैं। सिस्टोस्कोपी (मूत्राशय में) के कारण आपके मूत्र में 24 घंटे तक कुछ रक्त सकता है और यह सामान्य होता है। अगर यह एक दिन से अधिक समय तक बरकरार रहता है, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

 

This blog is a Hindi version of an English-written Blog - Going For An Endoscopy? Understand How It Works

Medanta Medical Team
Back to top