Facebook Twitter instagram Youtube
आपक-फफड-कस-कम-करत

आपके फेफड़े कैसे काम करते हैं?

अपने फेफड़ों की सेहत की देखभाल करने के लिए पहले इनके काम करने के तरीके को समझना आवश्यक चरण होता है। ओर अधिक जानकारी और आवश्यक मदद के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

 

आपका पूरा शरीर जीवित रहने के लिए आपके साँस में ली गई वायु में मौजूद ऑक्सीजन पर निर्भर करता है। फेफड़ों की नाजुक संरचना सांस लेने और ऑक्सीजन को पूरे शरीर में पहुंचाने के चुनौतीपूर्ण कार्यों को पूरा करने के लिए जिम्मेदार होते हैं। इसके साथ ही, फेफड़े शरीर को बाहरी क्षति से बचाने में भी अहम भूमिका निभाते हैं।

 

हमारे फेफड़े अक्सर बिना हमारी जानकारी के काम करते रहते हैं। लेकिन उन्हें विभिन्न तरीकों से क्षति पहुंच सकती है, जिसके फलस्वरूप हवा से ऑक्सीजन को सकारात्मक ढंग से अवशोषित करने और अपशिष्ट कार्बन डाइऑक्साइड को बाहर निकालने की उनकी क्षमता खो सकती है।

 

हम हर दिन में लगभग 22,000 बार सांस लेते हैं। हमारे फेफड़ों और श्वास की उच्च क्षमता व्यक्ति के स्वास्थ्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण होती है।

 

फेफड़ों का क्या महत्व होता हैं?

 

आपके शरीर के कोशिकाओं को जीवित रहने और सही तरह से काम करने के लिए ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है। जिस हवा में हम सांस लेते हैं उसमें ऑक्सीजन और अन्य आवश्यक गैसें मौजूद होती हैं। श्वसन तंत्र का प्राथमिक कार्य नई वायु को आपके शरीर में प्रवेश करना और अपशिष्ट गैसों को शरीर से बाहर निकालना होता है।

 

फेफड़ों में प्रवेश करने के बाद, ऑक्सीजन आपके शरीर के रक्त प्रवाह में प्रवेश करती है। फिर आपके शरीर में प्रत्येक कोशिका से अपशिष्ट गैस कार्बन डाइऑक्साइड को ऑक्सीजन से आदान-प्रदान हो जाता है। उसके बाद आपके रक्त प्रवाह से यह अपशिष्ट गैस फिर से फेफड़ों तक लाई जाती है, जहां इसे परिसंचरण से शरीर से बाहर निकाल दिया जाता है। यह गैस विनिमय, जो आपके फेफड़ों और श्वसन तंत्र द्वारा स्वभाविक रूप से किया जाने वाला एक महत्वपूर्ण गतिविधि, एक मूलभूत जीवन कार्य होता है।

 

गैस विनिमय के अलावा, आपका श्वसन तंत्र श्वसन संबंधी अन्य महत्वपूर्ण कार्यों को भी पूर्ण करता है। इनमें से कुछ मुख्य कार्य निम्नलिखित हैं:

  • वायु के तापमान और आर्द्रता को मनुष्य के शरीर के भौतिकीय के लिए उपयुक्त मूल्यों तक बढ़ाना।
  • शरीर को हानिकारक विषैली पदार्थों से बचाना। इसे खांसी, छींकना, फिल्टर करना या निगलने के जरिए किया जाता है।
  • गंध संवेदना का समर्थन करना।

 

फेफड़ों की संरचना:

 

छाती में, पसलियों के पीछे और हृदय के दोनों ओर, फेफड़े स्थित होते हैं। ये लगभग शंकु के आकार के होते हैं, जिनका आधार समतल होता है जो डायाफ्राम से जुड़ता है, और उनका शिखर एक गोलाकार सिरा होता है।

 

फेफड़े संख्या में दो होते हैं, हालांकि वे आकार और रूप में एक दूसरे से भिन्न होते हैं। दाहिना फेफड़ा नीचे लिवर के लिए जगह बनाने के लिए आकर में थोड़ा छोटा होता है, वही बायां फेफड़े में हृदय के स्थान के पास एक इंडेंटेशन शामिल होता है जिसे कार्डियक नॉच कहते हैं, जो उस क्षेत्र की सीमा बनाता है जहां हृदय उपस्थित होता है। समग्र रूप में, बायां फेफड़े का वजन और क्षमता दायां फेफड़े की तुलना में थोडा कम होते हैं।

 

फेफड़े दो झिल्लियों से घिरा हुआ है, जिन्हें प्लूरा कहा जाता है। बाहरी झिल्ली पसली के पिंजरे की अंदरूनी दीवार से जुड़ी होती है, जबकि आंतरिक झिल्ली फेफड़ों की बाहरी सतह से सीधी जुड़ी होती है। दो झिल्लियों के बीच के प्लूरा अंतराल में फुफ्फुस द्रव (Pleural fluid) मौजूद होता है, जो प्लूरा को आर्द्र रखता है और साँस लेने के दौरान होने वाले घर्षण को कम करता है।

 

फेफड़ों के कार्य:

 

फेफड़ों का प्राथमिक कार्य बाहरी वातावरण से वायु लेना और उसमें मौजूद ऑक्सीजन को रक्त में परिवहन करना होता है। फिर ऑक्सीजन यह रक्त से शरीर के बाकी हिस्सों में फैल जाती है।

 

शरीर की सहायक संरचनाएँ अंगों को सही ढंग से साँस लेने में मदद करती हैं। विभिन्न संरचनाएँ जैसे डायाफ्राम मांसपेशी, पसलियों के बीच के इंटरकोस्टल मांसपेशी, पेट के मांसपेशियाँ, और कभी-कभी गर्दन के मांसपेशी भी साँस लेने में सहायता करते हैं।

 

डायाफ्राम मांसपेशी फेफड़ों के नीचे स्थित होती है और इसका ऊपरी भाग गुम्बदाकार होता है। यह मांसपेशी साँस लेने में होने वाले अधिकांश श्रम का हिस्सा बनाता है। जब डायाफ्राम संकुचित होता है, तो यह नीचे चला जाता है, जिसके कारण छाती की की गुहा बढ़ जाती है और फेफड़ों की फैलने की क्षमता को बेहतर बनाती है।

 

जैसे-जैसे जगह बढ़ती है, वैसे ही छाती की गुहा में दबाव कम होता जाता है, जिससे परिणामस्वरूप वायु मुँह या नाक के माध्यम से फेफड़ों में आने में सक्षम हो जाती है।

 

जब डायाफ्राम अपनी आराम स्थिति में वापस आता है और इसकी मांसपेशियाँ शिथिल होती हैं, तब फेफड़ों की क्षमता कम हो जाती है, जिसके कारण छाती की गुहा में दबाव बढ़ जाता है और फेफड़े वायु को बाहर छोड़ते हैं। फेफड़े एक धौंकनी (bellows) के जैसे काम करते हैं, जो फैलते हैं और ऑक्सीजन प्रदान करने के लिए हवा अंदर खींचते हैं। साँस छोड़ते समय, जब वे सिकुड़ते हैं तो विनिमयित अपशिष्ट कार्बन डाइऑक्साइड को बाहर निकाल देते हैं।

 

मुँह या नाक में प्रवेश करने के बाद वायु ट्रेकिआ, जिसे आमतौर पर श्वासनली भी कहते है, से होकर गुजरती है। फिर यह कैरिना नामक स्थान में पहुंचती है। इसके बाद यह कैरिना में, श्वासनली दो भागों में विभाजित हो जाती है, जिससे दो मुख्य स्टेम ब्रांकाई बन जाती हैं। जो एक दायीं ओर, दूसरी बायीं ओर जाती है।

 

पाइप की आकर की ब्रांकाई फिर छोटे ब्रांकाई में विभाजित होती हैं और फिर वृक्ष की शाखाओं की तरह और भी छोटी ब्रोन्किओल में विभाजित हो जाती हैं। यह श्वास नालिका लगातार छोटी होती जाती है, और अंत में एल्विओली नामक छोटे वायु थैलियों में समाप्त होती है, जहां गैस का विनिमय होता है।

 

This blog is a Hindi version of an English-written Blog - How do your Lungs Function?

Medanta Medical Team
Back to top