Facebook Twitter instagram Youtube
असथम-य-सओपड-अतर-क

अस्थमा या सीओपीडी: अंतर कैसे जानें?

अस्थमा और क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (सीओपीडी) सबसे आम लेकिन पुरानी साँस-संबंधी बीमारियां हैं जिनके कारणवश फेफड़ों को गंभीर नुकसान पहुंच सकता है। नीचे बताया गया है कि आप इन दोनों स्थितियों के बीच अंतर कैसे जान सकते हैं। 

 

अस्थमा और सीओपीडी में अंतर 

अस्थमा फेफड़ों की सूजन वाली स्थिति होती है जो आपके श्वसन वायुमार्ग पर असर डालती है, जिसके कारण सांस लेने में गंभीर कठिनाई पैदा हो सकती है। 

वही दूसरी तरफ़, क्रोनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिसऑर्डर (सीओपीडी) सूजन संबंधी फेफड़ों की विभिन्न स्थितियों का एक समूह होता है जो आपके फेफड़ों में वायु प्रवाह में रुकावट पैदा करता है। सबसे आम सीओपीडी की स्थितियों में एम्फीसेमा, क्रोनिक ब्रोंकाइटिस, क्रोनिक अस्थमा शामिल हैं।  

 

अस्थमा और सीओपीडी के क्या कारण होते हैं? 

सीओपीडी का मुख्य कारण तंबाकू के धुआँ को साँस के साथ अंदर लेना है। सीओपीडी उन लोगों को भी प्रभावित कर सकता है जो खराब हवादार घरों में खाना पकाने के ईंधन से निकलने वाले धुएँ को सांस में लेते हैं। 

 

जब आपको अस्थमा होता है, तो आपका वायुमार्ग पर्यावरण में मौजूद विभिन्न तत्वों पर प्रतिक्रिया करता है। इन्हें अस्थमा ट्रिगर कारक भी कहते है। इन ट्रिगर्स के संपर्क में आने से अस्थमा के लक्षण शुरू या ओर  बिगड़ सकते हैं। सामान्य अस्थमा के ट्रिगर कारकों में संक्रमण, परागकण, धूल, पालतू जानवरों की डैन्डर और प्रदूषक तत्व और तंबाकू का धुआँ मुख्य होते हैं। 

 

अस्थमा के लक्षण क्या हैं? 

आपकी ब्रोन्कियल में सूजन अस्थमा का कारण बनती है, जिसमें इन के अंदर बलगम (चिपचिपा स्राव) का उत्पादन अधिक होने लग जाता है। अस्थमा से पीड़ित लोगों को अस्थमा का दौरा तब पड़ता हैं, जब उनके वायुमार्ग में जकड़न जाती हैं, सूजन हो जाती है, या यह बलगम भर जाता है। अस्थमा के सामान्य लक्षण निम्नलिखित हैं

  • खांसी जो रात में बढ़ जाती है 
  • घरघराहट (Wheezing) और सांस लेने में तकलीफ महसूस होना 
  • सीने में जकड़न, दर्द या दबाव का एहसास होना 

 

सीओपीडी के लक्षण क्या हैं? 

सीओपीडी के लक्षण व्यक्ति में धीरे-धीरे बढ़ सकते हैं, लेकिन इसके सबसे आम लक्षणों में शामिल हैं

  • क्रॉनिक खांसी, बलगम के साथ या बिना बलगम के
  • अत्यधिक थकान महसूस होना 
  • विभिन्न साँस-संबंधी संक्रमण
  • सांस लेने में दिक्कत होना (डिस्पेनिया) जो हल्की गतिविधि से भी बढ़ जाती है
  • गहरी सांस लेने में परेशानी होना
  • घरघराहट (wheezing) 

 

अस्थमा या सीओपीडी किन को हो सकता है? 

किसी में अस्थमा विकसित होने का सबसे आम जोखिम कारक यह है कि यदि उनके माता-पिता को अस्थमा है, या बचपन में उन्हें कभी गंभीर श्वसन संक्रमण हुआ है, या कोई एलर्जी की स्थिति है, या कार्यस्थल पर कुछ रासायनिक उत्तेजक पदार्थों या औद्योगिक धूल के संपर्क में आए हो। 

 

सीओपीडी के जोखिम कारकों में मुख्यतः निम्नलिखित हैं

  • सिगरेट के धुएँ के संपर्क में आना
  • अस्थमा से पीड़ित व्यक्ति का धूम्रपान करने पर 
  • काम पर धूल और रसायनों के संपर्क में आना 
  • सीओपीडी धीरे-धीरे कई वर्षों में विकसित होता है, इसलिए इसके लक्षण शुरू होने पर अधिकांश लोगों की उम्र कम से कम 40 वर्ष होती है 
  • सीओपीडी के कुछ मामलों का कारक एक दुर्लभ आनुवंशिक विकार अल्फा-1-एंटीट्रिप्सिन की कमी हो सकता है 

 

यह अस्थमा या सीओपीडी में से क्या है? 

स्पिरोमेट्री परीक्षण या पल्मोनरी कार्य परीक्षण द्वारा यह जानकारी मिलती है कि आपके फेफड़े कितनी हवा अंदर लेते हैं और बाहर छोड़ते हैं। 

 

हालाँकि, विभिन्न अध्ययनों से यह पता चलता है कि इन दोनों स्थिति के बीच एक महत्वपूर्ण ओवरलैप देखा जाता है। इस स्थिति को अस्थमा-सीओपीडी ओवरलैप सिंड्रोम (एसीओएस) कहते है। ये दोनों व्यक्ति में एक साथ विकसित हो सकते हैं, इसलिए रोगियों को महसूस होने वाले सभी लक्षणों के बारे में अपने डॉक्टर को बताना चाहिए।

 

This blog is a Hindi version of an English-written Blog - Asthma or COPD: How to Tell the Difference?

 

Medanta Medical Team
Back to top