Facebook Twitter instagram Youtube
फफड-म-सकरमण-क-लकषण-करण-और-उपचर

फेफड़ों में संक्रमण के लक्षण, कारण, और उपचार

फेफड़ों में संक्रमण के दौरान रोग पैदा करने वाले रोगाणु सूजन करते हैं| ये सूजन और प्रतिरक्षा कोशिकाओं के जमा होने के कारण फेफड़ों के वायुमार्ग या ऊतकों को नुकसान पहुँचता है। फेफड़ों के संक्रमण के संभावित कारक वायरस, बैक्टीरिया, कवक (fungi) और परजीवी हैं। कुछ परिस्थितियों में यह भी संभव है की एक से अधिक प्रकार के सूक्ष्म जीव फेफड़ों के संक्रमण के लिए जिम्मेदार हों, जैसे वायरल ब्रोंकाइटिस बैक्टीरियल निमोनिया में परिवर्तित हो सकता है। फेफड़ों में संक्रमण किसी भी उम्र में हो सकता है। हालाँकि, कुछ विशेष बीमारियाँ एक विशिष्ट आयुवर्ग में अधिक होती हैं। और यह किसी भी प्रकार के वायुमार्ग (ब्रांकाई, ब्रोंकीओल्स, एल्वियोली) को प्रभावित कर सकते हैं।

 

फेफड़ों में संक्रमण के लक्षण

 

फेफड़ों में संक्रमण कई बार बिना लक्षण के या कभी घातक रूप में भी हो सकते हैं।

 

फेफड़ों में संक्रमण के कुछ सामान्य संकेत और लक्षण निम्न हैं:

 

खांसी में बहुत ज़्यादा मात्रा में बलगम (mucous) का निकलना - खांसी का मुख्य कार्य शरीर को सूजन वाले वायुमार्ग और फेफड़ों द्वारा बनाए गए बलगम को आपके शरीर से बाहर निकलना है। कभी कभी इस बलगम में रक्त भी पाया जा सकता है। ब्रोंकाइटिस या निमोनिया जैसी बीमारियों में, आपके फेफड़ों से अलग-अलग रंगों में गाढ़ा बलगम निकल सकता है, जैसे:

  • पारदर्शी
  • सफ़ेद
  • हरा
  • पीले-भूरे रंग का  - फेफड़ों में संक्रमण के बाकी लक्षण कम हो जाने के बाद भी खांसी कई हफ्तों तक बनी रह सकती है।
  • सीने में चुभने वाला दर्द - फेफड़ों के संक्रमण की वजह से छाती में तीव्र और छुरा घोंपने जैसा एहसास हो सकता हैं। खांसने या गहरी सांस लेने पर यह तकलीफ और बढ़ जाती है। कभी-कभी व्यक्ति मध्य से ऊपरी पीठ में भी तीव्र दर्द महसूस कर सकता है।

 

फ्लू के लक्षण

जब आपका शरीर संक्रमण से लड़ता है तब आपको बुखार होता है। मानव शरीर का औसत सामान्य तापमान 98.6°F (37°C) होता है।  यदि आपके फेफड़ों में बैक्टीरियल संक्रमण हुआ है तो 105°F (40.5°C) तक बुखार हो सकता है। आमतौर पर 102°F (38.9°C) से अधिक का बुखार कुछ और लक्षणों के साथ होता है, जिनमे से कुछ निम्न है:

  • पसीना आना
  • ठंड लगना
  • मांसपेशियों में दर्द
  • डीहाइड्रेशन
  • सिर दर्द
  • कमज़ोरी


अगर आपका तापमान 102°F (38.9°C) से ज़्यादा हो जाता है या तीन दिनों के बाद तक कम नहीं हो रहा है तो तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए।


दर्द महसूस होना - फेफड़ों में संक्रमण होने पर आपको मांसपेशियों और पीठ में दर्द महसूस हो सकता है। इसे मायलजिया भी कहते है। इस बीमारी के साइड इफेक्ट के रूप में, आपकी मांसपेशियों में सूजन भी आ सकती है, जिसके कारण आपको पूरे शरीर की मांसपेशियों में दर्द हो सकता है।

 

बहती हुई नाक और खुजली महसूस होना - ब्रोंकाइटिस में फ्लू जैसे लक्षण, विशेष रूप से खांसी और छींके आना महत्वपूर्ण लक्षण हैं।

 

सांस फूलना - सांस की कमी होने पर व्यक्ति को पूरी सांस लेने में दिक़्क़त होती है। इसीलिए जब ​​भी आपको सांस लेने में कठिनाई हो रही हो, तो आपको तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

 

थकान महसूस होना - जब आपका शरीर किसी संक्रमण से लड़ता है तो आप सुस्त और थका हुआ महसूस करते हो। अतः आप थका महसूस कर रहे है तो ये आराम करने का उचित समय है।

 

व्हीजिंग की आवाज़ आना - वायुमार्ग का संकरा होना या सूजन आने के कारण जब आप साँस छोड़ते हैं, तो ऊँची-ऊँची सीटी की आवाज़ या व्हीजिंग की आवाज़ सुनायी देना आम है।

 

आपकी त्वचा या होंठ नीले दिख सकते हैं - ऑक्सीजन की कमी से आपके होंठ, त्वचा, या नाखून हल्के नीले पड़ सकते हैं।

 

 फेफड़ों से चटकने या खड़खड़ाने जैसी आवाज़ें आना - फेफड़ों के तल पर एक कर्कश ध्वनि, जिसे बिबासिलर क्रैकल्स भी कहते है, फेफड़ों में संक्रमण की पुष्टि करने वाले स्पष्ट लक्षणों में से एक है। स्टेथोस्कोप की सहायता से डॉक्टर इन आवाजों को आसानी से सुन सकते हैं।

 

फेफड़ों में संक्रमण के कारण


फेफड़ों के संक्रमण का मुख्य कारण फेफड़ों की बीमारियों जैसे ब्रोंकाइटिस, निमोनिया और ब्रोंकियोलाइटिस होती हैं। आमतौर पर वायरस और बैक्टीरिया संक्रमण के मुख्य दौषी हैं। ब्रोंकाइटिस विभिन्न प्रकार के बैक्टीरिया की वजह से हो सकता है, जैसे:

  • इन्फ्लुएंजा वायरस और अन्य रेस्पिरेटरी सिंकिटियल वायरस (RSV)
  • क्लैमाइडिया निमोनिया, माइकोप्लाज़्मा निमोनिया और बोरेलिया पर्टुसिस

 

निमोनिया के लिए उत्तरदायी सूक्ष्मजीवी निम्न है:

  • स्ट्रेप्टोकोकस न्यूमोनिया, हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा, और माइकोप्लाज्मा न्यूमोनिया
  • इन्फ्लुएंजा और रेस्पिरेटरी सिंकिटियल वायरस (RSV)

 

न्यूमोसिस्टिस जीरोवेसी, एस्परगिलस और हिस्टोप्लाज्मा कैप्सुलटम नामक कवक फेफड़ों में संक्रमण का कारण हो सकते हैं। कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले व्यक्तियों, जैसे कि कुछ प्रकार के कैंसर या एचआईवी वाले, या इम्यूनोसप्रेसिव दवाइयाँ लेने वालों में फेफड़ों के फंगल संक्रमण होने की संभावना अधिक होती हैं।

 

फेफड़ों में संक्रमण की जाँच


सबसे पहले डॉक्टर आपके स्वास्थ्य और आपके वर्तमान लक्षणों के बारे में पूछताछ करेगा। डॉक्टर आपसे विभिन्न प्रश्न पूछ सकते हैं जैसे आपकी नौकरी के बारे में, हाल ही में की गई यात्रा के बारे में, या आप जानवरों के आसपास रह रहे हैं या नहीं। डॉक्टर आपका तापमान लेंगे, और स्टेथोस्कोप द्वारा आपकी छाती से आती हुई कर्कश आवाजों को सुन सकते हैं।

 

फेफड़ों के संक्रमण के लिए डॉक्टर निम्न जाँचे भी लिख सकते हैं:

  • छाती का एक्स-रे और सीटी स्कैन
  • ब्रोंकोस्कोपी, ईबीयूएस, थोरैकोस्कोपी
  • स्पाइरोमेट्री द्वारा यह देख सकते हैं कि आप कितनी और तेजी से सांस ले रहे हैं
  • पल्स ऑक्सीमेट्री द्वारा आपके रक्त में ऑक्सीजन के स्तर का पता किया जाता है
  • गले के स्वैब के साथ नाक से स्राव या बलगम का नमूना संक्रमण की जाँच में काम आता है
  • कंप्लीट ब्लड काउंट (CBC)
  • रक्त परीक्षण
  • थूक का परीक्षण

 

फेफड़ों में संक्रमण का उपचार


बीमारी और इसके लिए ज़िम्मेदार सूक्ष्मजीवियों के आधार पर, फेफड़ों के संक्रमण के लिए अलग-अलग उपचार हो सकते है, हालांकि अधिकांश संक्रमणों के लिए कुछ विशेष दवाओं का उपयोग किया जा सकता है।

 

घरेलू नुस्ख़े

 

फेफड़ों के संक्रमण के उपचार के लिए कुछ घरेलू नुस्ख़े निम्न हैं:

  • एसिटामिनोफेन (टाइलेनॉल) या इबुप्रोफेन (एडविल) दवाई लेना
  • पर्याप्त नींद लें और खूब पानी पिये
  • मिस्ट वेपोराइज़र का उपयोग करना

 

एक नए शोध के अनुसार, एक चम्मच शहद खांसी और जुकाम में काफ़ी असरदार हो सकती है। बैक्टीरिया के संक्रमण के इलाज के लिए आमतौर पर डॉक्टर एंटीबायोटिक्स देते है। केटोकोनाज़ोल या वोरिकोनाज़ोल दो मुख्य एंटिफंगल दवाएं हैं जिनका उपयोग फेफड़ों के फंगल संक्रमण के उपचार में किया जाता है। फेफड़ों के वायरल संक्रमण के लिए एंटीवायरल दवाइयाँ काम में आती हैं।

 

आमतौर पर संक्रमण कम करने के लिए कोई उपचार करने से पहले आपको अपने शरीर की संक्रमण हटाने की स्वभाविक प्रतिक्रियाओं के लिए इंतजार करना चाहिए। इसी दौरान, निम्न घरेलू फेफड़ों के संक्रमण के कुछ उपचार आपके शरीर को संक्रमण से लड़ने में सहायता करते हैं, और आपको आराम पहुँचते हैं:

 

  • एसिटामिनोफेन या इबुप्रोफेन दवा बुखार को कम करने में मदद करती है
  • भरपूर पानी पियें
  • शहद या अदरक की चाय बहुत आराम देती है।
  • नमक के पानी से गरारे करें
  • खूब आराम करें और पर्याप्त नींद लें
  • हवा में नमी बनाये रखने के लिए ह्यूमिडिफायर का इस्तेमाल करें
  • सिर्फ़ डॉक्टर द्वारा लिखी दवाई ही लें

 

यदि आपके फेफड़ों में संक्रमण अधिक गंभीर है, तो डॉक्टर आपको पूरी तरह से ठीक होने के लिए कुछ समय के लिए अस्पताल में रहने के लिए सलाह देते है। यदि आपको सांस लेने में दिक़्क़त हो रही है, तो डॉक्टर एंटीबायोटिक्स, इंट्रवेनस तरल पदार्थ, या श्वसन उपचार देते हैं।

 

आपको डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए? 


यदि सही उपचार ना किया जाये तो फेफड़ों में संक्रमण जानलेवा भी हो सकता है। यदि आपको तीन सप्ताह से अधिक खांसी है, और जिसके कारण आपको सांस लेने में कठिनाई होती है, तो तुरंत डॉक्टर के पास जा कर उचित इलाज लेना चाहिए।

 

This blog is a Hindi version of an English-written Blog - Symptoms of a Lung Infection: Causes & Treatments

Dr. Jugendra Singh
Critical Care
Meet The Doctor
Back to top