Facebook Twitter instagram Youtube
परष-म-यसट-सकरमण-करण-और-नदन-diagnosis

पुरुषों में यीस्ट संक्रमण: कारण और निदान (Diagnosis)

यीस्ट संक्रमण को अधिकतर महिलाओं की स्वास्थ्य समस्या माना जाता हैं क्योंकि वे यीस्ट इन्फेक्शन के लिये ज़्यादा संवेदनशील होती हैं। यद्यपि पुरुषों में इसके होने की संभावना कम होती हैं, परंतु यीस्ट संक्रमण लिंग या उम्र की परवाह किए बिना किसी को भी हो सकता हैं। इसका मुख्य कारक कैंडिडा नामक कवक है जो गर्म और नम स्थितियों में पनपते हैं। महिलाओं में यीस्ट संक्रमण को वैजाइनल कैंडिडिआसिस कहते हैं और यह महिला योनि (vagina) को प्रभावित करता है, जबकि पुरुषों में उन्हें कैंडिडल बैलेनाइटिस या बैलेनाइटिस थ्रश कहा जाता है और यह पैनिस को प्रभावित करता है।

 

 

पुरुषों में यीस्ट संक्रमण के क्या कारण हैं?

 

हालाँकि, यीस्ट संक्रमण यौन संचारित संक्रमण (STI) नहीं हैं परन्तु कभी-कभी यौन गतिविधि के माध्यम से साथी में पारित हो सकता है। कई पुरुष प्रभावित महिला साथी के साथ यौन संपर्क से यीस्ट संक्रमण ग्रहण कर लेते हैं।

 

पुरुषों में यीस्ट संक्रमण के अन्य कारण और संभावित जोखिम कारक निम्नलिखित हैं:

 

• खतनारहित (uncircumcised) होना
• साफ़-सफ़ाई का ध्यान ना रखना
मधुमेह
• लंबे समय तक एंटीबॉयोटिक्स का सेवन
• कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली

• जलन पैदा करने वाले साबुन और त्वचा उत्पादों का उपयोग
• कसे हुए अंडरवियर या गीले कपड़े पहनना
• लुब्रिकेंट वाले कंडोम का इस्तेमाल करना
• स्पर्मीसाइड का उपयोग

 

यीस्ट संक्रमण के लक्षण

 

महिलाओं के विपरीत, आमतौर पर पुरुषों को यीस्ट संक्रमण के किसी भी लक्षण का अनुभव नहीं होता है। हालांकि, जब इसके लक्षण प्रकट होते हैं, तो वे बहुत असुविधा और दर्द कर सकते हैं।

 

पुरुषों में यीस्ट संक्रमण के कुछ लक्षण निम्नलिखित हैं:

 

• पेशाब में जलन
• लिंग की चमड़ी (foreskin) पर घाव
• पैनीस के सिर के चारों ओर और चमड़ी के नीचे जलन और लालिमा
• सफ़ेद और दुर्गंधयुक्त स्राव
• संभोग के दौरान परेशानी
• मवाद वाले छोटे दाने या छाले
• पैनीस के शीर्ष पर सफेद धब्बे

 

पुरुषों में यीस्ट संक्रमण जननांगों के अलावा त्वचा के अन्य क्षेत्रों में भी हो सकता है। ऐसे मामलों में, त्वचा पर लाल, खुजली या दर्दनाक चकत्ते पैदा हो सकते हैं जिनसे सफेद या पीले रंग का स्राव हो सकता हैं।

 

 

डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

 

ज़्यादातर माइल्ड यीस्ट संक्रमण साफ़-सफ़ाई का ध्यान रखने पर कुछ दिनों में अपने आप ठीक हो जाते हैं। आपका डॉक्टर आपके लक्षण को नियंत्रित करने के लिए एंटिफंगल क्रीम या मुँह से लेने वाली दवाएँ लेने की सलाह दे सकता हैं।

 

हालाँकि, पैनीस के यीस्ट संक्रमण का समय पर इलाज ना करने और गंभीर संक्रमण से प्रोस्टेट की समस्या हो सकती है। जिन पुरुषों को बार-बार यीस्ट संक्रमण हो रहा है उन्हें तुरंत डॉक्टर से सहायता लेनी चाहिए, खासकर जब संक्रमण कुछ दिनों में अपने आप ठीक नहीं होता है। यदि आपको यीस्ट संक्रमण के लक्षण लगातार है, तो यह मधुमेह या कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली जैसी समस्याओं का चेतावनी संकेत हो सकता है।

 

यदि यीस्ट संक्रमण गंभीर है, तो डॉक्टर लिंग या चमड़ी के शीर्ष भाग के चारों ओर से एक स्वैब प्रयोगशाला में जाँच करने के लिए लेते हैं। और यदि घाव लंबे समय तक ठीक नहीं हो रहें हैं, तो बायोप्सी की भी आवश्यकता हो सकती है।

 

 

क्या पुरुषों में यीस्ट संक्रमण को होने से रोका जा सकता हैं?

 

जननांगो की सफ़ाई का ध्यान यीस्ट संक्रमण को रोकने में मदद कर सकता है और उनका इलाज करने में भी मदद कर सकता है। रोज़ पैनीस और आस-पास के जननांग क्षेत्र को सादे गुनगुने पानी से धोना चाहिए, शॉवर जैल और तेज सुगंध वाले साबुन के उपयोग से बचें। यह हमेशा सुनिश्चित करें कि आप सफाई के बाद जननांगो को मुलायम तौलिये से सुखायें। जननांगों को सूखा और ठंडा रखने के लिए ढीले-ढाले सूती अंडरवियर या बॉक्सर पहनें, जो यीस्ट संक्रमण के विकास को रोकने में भी मदद कर सकते हैं।

 

This blog is a Hindi version of English written blog - Yeast Infections in Men – Causes and Diagnosis

Medanta Medical Team
Back to top