Facebook Twitter instagram Youtube
कडन-परतयरपण-क-बद

किडनी प्रत्यारोपण के बाद स्वस्थ कैसे रहें?

1971 में पहले हुए सफल प्रत्यारोपण के बाद से, भारत में किडनी प्रत्यारोपण ने पिछले पांच दशकों में एक लंबा सफर तय किया है। हमारी जनसंख्या के आधार पर, अंगदान करने वाले दाताओं की संख्या बनाम आवश्यक प्रत्यारोपणों की संख्या में अंतर आज भी बना हुआ है। हालांकि, किडनी प्रत्यारोपण की सर्जिकल जटिलताओं को काफी हद तक कम कर दिया गया है। वास्तव में, लेप्रोस्कोपिक सर्जरी के उपयोग में एक प्रत्यक्ष वृद्धि दिखाई दे रही है, जो ऑपरेशन के बाद के जोखिमों को कम करता है।

 

लेकिन प्रत्यारोपण की सफलता को सुनिश्चित करने के लिए सर्जरी के बाद का समय भी उतना ही महत्वपूर्ण सिद्ध होता है। प्रत्यारोपण करवाने से पहले, आपको यह जानकारी अवश्य होनी चाहिए कि प्रत्यारोपण के बाद जीवन कैसा होगा।

 

किडनी प्रत्यारोपण किन व्यक्तियों में किया जाता है?

 

हमारी किडनी एक दिन में लगभग 170 लीटर रक्त को फ़िल्टर करती हैं और हमारे शरीर को अपशिष्ट पदार्थों से मुक्त रखती हैं। अगर कोई व्यक्ति क्रोनिक किडनी रोग (सीकेडी) से ग्रसित है, तो व्यक्ति में तरल पदार्थ और अपशिष्ट जमा होने लग जाता है, जिसके परिणामस्वरूप व्यक्ति में उच्च रक्तचाप और किडनी फेलियर जैसी समस्याएँ हो सकती हैं।

 

किसी किडनी की क्षति से पीड़ित व्यक्ति उपचार में या तो किडनी प्रत्यारोपण करवा सकता है या डायलिसिस (एक ऐसा उपचार जिसमें रक्त को या तो किसी मशीन या विशेष ट्यूब द्वारा फ़िल्टर किया जाता है) पर रह सकता है। अधिकांश डॉक्टर डायलिसिस के बजाय किडनी प्रत्यारोपण को उपचार में प्राथमिकता देते हैं, क्योंकि जो लोग प्रत्यारोपण करवाते हैं वे अधिक समय तक जीवित रहते हैं।

 

किडनी प्रत्यारोपण के बाद जीवन 

 

क्रोनिक किडनी रोग (सीकेडी) से पीड़ित अधिकांश लोगों के लिए, किडनी प्रत्यारोपण से जीवन का एक और मौका मिल रहा है। इसके बाद, यह रोगी पर निर्भर करता है कि वह इस दूसरे अवसर का सर्वोत्तम उपयोग करे। 

 

नीचे उन चीजों के बारे में बताया गया है जिनका किडनी प्रत्यारोपण के बाद ख़ास ध्यान रखना चाहिए:

 

1. स्वस्थ आहार और नियमित व्यायाम:

किडनी प्रत्यारोपण सर्जरी के बाद आपको उन खाद्य पदार्थ के सेवन की आवश्यकता होगी जो नमक और वसा में कम हो, ताकि आपका रक्तचाप नियंत्रित सीमा में रहे। यदि आपको मधुमेह है, तो आपको अपने शर्करा के स्तर पर भी नज़र रखने की भी आवश्यकता होगी। आपके आहार विशेषज्ञ आपके किडनी प्रत्यारोपण सर्जरी के बाद आपके लिए एक नई आहार योजना बना कर देते हैं।

 

जब बात शारीरिक गतिविधि की होती है, तो सर्जरी से रिकवरी करने के बाद आपको शारीरिक गतिविधि की एक नई योजना की सलाह दी जा सकती है। इससे आपके हृदय और फेफड़ों के स्वास्थ्य में सुधार के साथ-साथ आपके मूड में सुधार होगा, और अतिरिक्त वजन बढ़ने से बचा जा सकता है।

 

2. इम्यूनोसप्रेसेंट्स दवाएँ:

 

किडनी प्रत्यारोपण सर्जरी के बाद एक संभावित जोखिम प्रत्यारोपित अंग की अस्वीकृति होता है। यदि आपके शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली नई किडनी को अपना नहीं पाती है, तो यह इसके खिलाफ लड़ेगी। इस प्रतिक्रिया को दबाने के लिए डॉक्टर आपको इम्यूनोसप्रेसेंट्स (या प्रतिरक्षण दवाएँ) देते हैं, जो आपके इम्यून सिस्टम को कमजोर कर इसे अस्वीकृत होने से रोकने में मदद करेंगी।

 

इम्यूनोसप्रेसेंट्स को बहुत ध्यानपूर्वक लिया जाना चाहिए और आप इसकी एक भी खुराक नहीं छोड़ सकते है। यह भी महत्वपूर्ण जानने के लिए है कि हालाँकि ये दवाएँ महत्वपूर्ण होती हैं और आपकी किडनी की मदद कर रही हैं, परंतु इसके साथ-साथ वे आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर कर रही हैं। इससे आपमें विभिन्न संक्रमण के खतरे में वृद्धि हो सकती है। ये आपके मानसिक स्वास्थ्य पर भी प्रभाव डालती हैं। 

 

3. सकारात्मक मानसिक स्वास्थ्य सुनिश्चित करें:

 

किडनी प्रत्यारोपण सर्जरी किसी व्यक्ति के लिए एक महत्वपूर्ण जीवन परिवर्तन होता है, और इस दौरान आपमें भावनात्मक उथल-पुथल हो सकती है। यदि आप डिप्रेशन, चिंता या अपराधबोध की भावना महसूस कर रहे हैं, तो यह सुनिश्चित करें कि आप इसके बारे में अपने परिवार और दोस्तों से बात करते हैं। इम्यूनोसप्रेसेंट्स दवाएँ भी कुछ भावनात्मक परिवर्तनों को प्रेरित करने के लिये जानी जाती हैं। यदि आप डायलिसिस पर थे, तो आपको दूसरे रोगियों को पीछे छोड़ कर जाने के लिए का भी अपराधबोध का अनुभव हो सकता है।

 

अपनी प्रत्यारोपण टीम को यह बताएं कि आप किस प्रकार के परिवर्तनों से गुजर रहे हैं। आपको इन भावनाओं को बढ़ने नहीं देना चाहिए, बल्कि जल्द से जल्द मदद तलाशनी चाहिए।

 

4. जीवनशैली में परिवर्तन:

 

किडनी सर्जरी एक महत्वपूर्ण शारीरिक परिवर्तन होता है। पहली बात जो आपको समझनी होगी, वह यह है कि आप तुरंत अपने पहले वाले जीवन में वापस नहीं लौट सकते हैं। प्रत्यारोपण का सर्जिकल हिस्सा कुछ हफ्तों में ठीक हो सकता है, लेकिन आपके शरीर को इससे लंबे समय की आवश्यकता होती है। आपको अपनी जीवनशैली में इन परिवर्तनों को करने के लिए तैयार रहने की आवश्यकता होगी, जैसे:

  • कामकाज शैली: आपको अपनी सर्जरी के बाद लगभग 6 हफ्तों तक आराम करने की सलाह दी जाएगी।
  • यात्रा: आपको अपनी सर्जरी के बाद कम से कम 3 महीने के लिए कोई बड़ी यात्रा करने की सलाह दी जाती है।
  • गाड़ी चलाना: आपको अपने डॉक्टर की सलाह के अनुसार सर्जरी के एक महीने बाद गाड़ी चलाने की अनुमति होती है। फिर भी, कुछ दवाएँ आपको कंपकंपी और दृष्टि में परिवर्तन दे सकती हैं। गाड़ी चलाने के समय आपके साथ किसी को रखने की सलाह दी जाती है।
  • शारीरिक प्रयास: सर्जरी के बाद आपको कुछ हफ्तों के लिए भारी सामान उठाना नहीं चाहिए, कुछ हफ्तों तक सेक्स नहीं करना, तनाव से बचना और यह सुनिश्चित करना होगा कि आप ऐसे किसी व्यक्ति के पास जाएँ जो अस्वस्थ है, चाहे यह थोड़ी सी फ्लू हो।

 

5. आपकी नई किडनी को स्वस्थ रखना:

 

अपनी नई किडनी के अच्छी तरह से काम करने में ध्यान दें। डॉक्टर द्वारा बताए गये कुछ दिशानिर्देशों का पालन करें और उन्हें अपने दैनिक जीवन का हिस्सा बनाएं:

  • किसी भी दवाई को भूलें: उन्हें डॉक्टर के सलाह के अनुसार बिल्कुल वैसे ही लें
  • संक्रमण के संकेतों का मॉनिटर करें और संक्रमण प्राप्त होने की संभावना वाली स्थितियों या लोगों से बचें
  • हमेशा हाइड्रेट रहें
  • एक सख्त आहार का पालन करें
  • डॉक्टर की अनुमति के बाद ही व्यायाम शुरू करें
  • धूप के संपर्क में आने से से बचें
Medanta Medical Team
Back to top