Facebook Twitter instagram Youtube
ऑबसटरकटव-सलप-एपनय

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया की स्थिति को नजरअंदाज न करें

जब रात में गला दबने या सांस फूलने के एहसास के कारण आपकी शांत गहरी नींद अचानक टूट जाती है, और यदि यह अनुभूति बार-बार होती है, तो आपको जल्द से जल्द एक डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए। ये नींद से संबंधित एक स्थिति, ओबस्ट्रक्टिव स्लीप एपनिया (ओएसए), के बुनियादी संकेत होते हैं। इस स्थिति में, रात में सोते समय व्यक्ति कई बार साँस लेना बंद कर देता है; क्योंकि गले की मांसपेशियाँ ज़्यादा समय तक रिलैक्स हो जाती हैं जिसके कारण पूरी तरह या आंशिक रूप से ऊपरी वायु मार्ग को अवरुद्ध कर देती हैं। ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया, को मुख्यतः जोरदार खर्राटों के साथ जोड़ा जाता है, जो की वास्तव में एक गंभीर स्थिति मानी जाती है। कुछ डॉक्टरों के अनुसार एक व्यक्ति हर घंटे में 100 से भी अधिक बार श्वास रोकने और फिर से शुरू करने वाले इस दौरे का अनुभव कर सकता है। इस अनियमित श्वास का शरीर पर चक्रीय प्रभाव पड़ता है, जो अधिकतर हानिकारक हो सकता है। 

 

सामान्यतः जब व्यक्ति नींद के दौरान साँस लेता है, तो हवा उनके मुँह और नाक से बिना रुकावट के बहती है और फेफड़ों तक पहुँचती है। लेकिन जब ओएसए से ग्रसित व्यक्ति सोता है, तो उनकी गले की मांसपेशियाँ शिथिल हो जाती हैं और जीभ पीछे की तरफ़ गिर जाती है, जिससे परिणामस्वरूप वायुमार्ग बंद हो जाता है। इसके कारण, बहुत कम मात्रा में हवा फेफड़ों तक पहुंचती है। कई बार हवा का बहाब बिलकुल रुक जाता है | जब मस्तिष्क को अनुभूति होती है कि ऑक्सीजन के आपूर्ति स्तर में गिरावट हो गई है और कार्बन डाइऑक्साइड के स्तर में वृद्धि हो रही है, तो यह तुरंत सक्रिय हो जाता है। इससे गले की मांसपेशियाँ और जीभ अपनी सामान्य स्थिति में वापिस लौट जाती हैं, जिससे साँस फिर से आने लग जाती है। जब व्यक्ति साँस में रुकावट के कारण अचानक उठता है, तो वह आमतौर पर हांफने, दम घुटने या खर्राटे के साथ नींद खुलने का अनुभव करता है। ये सभी एहसास अवचेतन स्तर पर महसूस होते हैं और कई बार व्यक्ति को इसके बारे में बिल्कुल भी पता नहीं चलता है। 

 

ओबस्ट्रक्टिव स्लीप एपनिया (ओएसए) की पहचान कैसे करें?

 

ओएसए के कुछ सामान्य लक्षण निम्नलिखित हैं:

  • खर्राटे लेना
  • दिनभर नींद आना
  • सोते समय अचानक घुटन महसूस होना
  • मुँह सूखना 
  • रात में पसीना आना
  • रक्तचाप बढ़ना 
  • सुबह को सिरदर्द महसूस होना 

सामान्यतः खर्राटे थकान, सामान्य सर्दी और कभी-कभी शराब पीने के कारण ही आते हैं और जरूरी नहीं कि यह स्लीप एपनिया के कारण ही हो। इसलिए सभी खर्राटों को गंभीर नहीं माना जा सकता है, हालाँकि अगर कोई व्यक्ति नियमित रूप से खर्राटे लेता है तो डॉक्टर से इसके बारे में परामर्श करना चाहिए। 

 

ओएसए के लिए जोखिम कारक

  • बॉडी मास इंडेक्स > 30 (मोटापा)
  • गर्दन की परिधि:
  • > पुरुषों में 17 इंच
  • > महिलाओं में 16 इंच
  • उम्र > 40 वर्ष 
  • लिंग: पुरुष
  • चेहरे में संरचनात्मक असामान्यताएँ 
  • शराब 
  • धूम्रपान 

 

ओएसए का उपचार नहीं करवाने से क्या दुष्परिणाम होते हैं? 

 

डॉक्टरों के अनुसार ओएसए की स्थिति को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि इससे कई तरह की जटिलताएँ पैदा हो सकती हैं, जैसे कि

  • सबसे आम दुष्प्रभाव दिन में नींद आना और चिढ़चिड़ाहट है, जो कि व्यक्ति के दिनभर के कामकाज पर प्रभाव डाल सकता है।
  • ख़राब नींद के पैटर्न और बार-बार जागने के कारण रक्तचाप स्तर बढ़ जाने का ख़तरा बढ़ जाता है। उच्च रक्तचाप कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों जैसे दिल की कमजोरी और हृदयघात के खतरे को कई गुणा बढ़ा सकता है।
  • ओएसए के असामान्य साँस को अरिथ्मिया (असामान्य हृदय गति) से भी जोड़ा जाता है, जिसके परिणामस्वरूप शरीर के विभिन्न अंगों में ऑक्सीजन युक्त रक्त की आपूर्ति में व्यवधान होता है।
  • ओएसए के कारण खर्राटे से स्ट्रोक के खतरे में काफ़ी वृद्धि होती है क्योंकि से होने वाले कंपन से कैरोटिड धमनियां मोटी हो जाती हैं। क्योंकि कैरोटिड धमनियाँ आपके मस्तिष्क को रक्त पहुँचाने का कार्य करती हैं, अतः इन धमनियों के मोटे हो जाने से रक्त के नियमित प्रवाह को प्रभावित या बाधित कर सकता है।
  • अच्छी नींद की कमी के कारण ओएसए से ग्रसित व्यक्ति को टाइप 2 डायबीटीज़ होने का खतरा बढ़ जाता है क्योंकि यह शरीर में ग्लूकोज संसाधित करने के तरीके में बदलाव कर सकता है।
  • नींद की कमी से व्यक्ति की प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर हो जाती है क्योंकि शरीर में संक्रमण से लड़ने के लिए आवश्यक घटकों में कमी हो जाती है। 

 

ओबस्ट्रक्टिव स्लीप एपनिया का उपचार 

 

ओएसए का यदि समय पर निदान और उपचार हो तो यह घातक हो सकता है। 

 

मेदांता- मेडिसिटी में रेस्पिरेटरी एंड स्लीप मेडिसिन के एसोसिएट डायरेक्टर डॉ. बोर्नली दत्ता द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार- ओएसए के कारण कई सड़क दुर्घटनाएँ हुई हैं क्योंकि दुर्घटना करने वाला व्यक्ति स्लीप एपनिया से पीड़ित था पर उसे इसके बारे में जानकारी नहीं थी। और कभी-कभी जब कोई एपनिया से पीड़ित व्यक्ति गाड़ी चला रहा होता है, तो वह गाड़ी चलाते समय सो सकता है और दुर्घटना हो सकती है। इसलिए, वह खुद को और दूसरों को भी चोट पहुंचा सकता है। 

 

मेदांता में, ओबस्ट्रक्टिव स्लीप एपनिया का पता लगाने और उसके उपचार के लिए, डॉक्टरों द्वारा विशेष रूप से डिजाइन की गई स्लीप लैब में व्यक्ति की नींद का अध्ययन किया जाता है। एक नींद अध्ययन एपनिया से पीड़ित व्यक्ति के सोने के पैटर्न को रिकॉर्ड करता है जो एपनिया की गंभीरता को समझने में डॉक्टर की सहायता करता है। रात्रि के पहले आधे भाग में सोने और सांस लेने के पैटर्न के आधार पर इस स्थिति का निदान किया जाता है। निदान के बाद, रात के बाक़ी बचे दूसरे भाग में CPAP (कंटीन्यूअस पॉजिटिव एयरवे प्रेशर) या BiPAP (बाइलेवल पॉजिटिव एयरवे प्रेशर) मशीन का उपयोग करके उपचार किया जाता है, ये मशीन हल्के वायु दबाव देकर रोगी को सांस लेने में मदद करती है जो उनके वायुमार्ग को खुला रखता है। इसके बाद डॉक्टर आगे के मूल्यांकन और उपचार निर्धारित करने के लिए नींद के अध्ययन से उत्पन्न प्रयोगशाला रिपोर्टों को देखता है। 

 

डॉ. दत्ता के अनुसारओएसए के उपचार के लिए श्वसन और नींद चिकित्सक से परामर्श करना बहुत महत्वपूर्ण कदम होता है। अच्छी खबर यह है कि आजकल अधिक लोग इस स्थिति का इलाज कराने के लिए आगे रहे हैं

 

उपयुक्त उपचार और आपकी जीवनशैली में कुछ बदलाव जैसे व्यायाम, अतिरिक्त वजन कम करना, संतुलित भोजन करना और धूम्रपान और शराब से परहेज करके ओएसए की स्थिति को काफी हद तक नियंत्रित किया जा सकता है।

Medanta Medical Team
Back to top