Facebook Twitter instagram Youtube
अपन-शरर-म-परकतक-र

अपने शरीर में प्राकृतिक रूप से चयापचय या मेटाबॉलिज्म कैसे बढ़ाएं?

जब हम वजन कम करने का प्रयास करते हैं, तो हम अपने शरीर के चयापचय या मेटाबोलिज्म के बारे में सोचते हैं। जिन व्यक्तियों का मेटाबोलिज्म धीमा होता है, उनका एक उच्च मेटाबोलिज्म वाले व्यक्ति की तुलना में वजन कम करना मुश्किल होगा। अधिकांश लोग इस बात से अनजान होते हैं कि मेटाबोलिज्म कैसे काम करता है। तो, इस ब्लॉग में, हम इस बारे में बात करेंगे कि मेटाबोलिज्म क्या है और कैसे किसी सप्लीमेंट्स का सेवन किए बिना मेटाबोलिज्म को प्राकृतिक रूप से बढ़ा सकते हैं।

 

मेटाबोलिज्म क्या है?

 

अगर हम इसे सरलता से समझने की कोशिश करें, तो शब्द 'मेटाबोलिज्म' का मतलब आपके शरीर की आपके द्वारा सेवन किये जाने वाले भोजन को पचाने की क्षमता है। प्राथमिक रूप से आपके शरीर में एंजाइमिक गतिविधियाँ मुख्यतः भोजन के पाचन में मदद करती है। शरीर का मेटाबोलिज्म हमें बढ़ने और हमारे आस-पास के वातावरण के अनुरूप ढलने में मदद करता है। भोजन में संग्रहीत ऊर्जा शरीर की मेटाबोलिक गतिविधियों द्वारा उपयोग योग्य ऊर्जा में परिवर्तित हो जाती है। धीमे मेटाबोलिज्म होने का यह मतलब है कि यह आपके शरीर के वजन पर सीधे या अप्रत्यक्ष रूप से प्रभाव डालता है।

 

बेसल मेटाबॉलिक रेट क्या होती है?

 

आपके शरीर को अपने शारीरिक कार्यों को पूरा करने के लिए लगातार कैलोरी की आवश्यकता होती है। बेसल मेटाबोलिक रेट (बीएमआर) एक मानव शरीर द्वारा किए जाने वाले मौलिक शारीरिक कार्यों को पूरा करने के लिए आवश्यक कैलोरी की संख्या होती है। अपने बीएमआर के आधार पर, आपको स्वस्थ रहने के लिए अपने जीवनशैली की रूपरेखा बनानी चाहिए।

 

मेटाबोलिज्म मानव शरीर को कैसे प्रभावित करता है?

 

हमारे शरीर के अंदर दिन भर कई रसायनिक प्रतिक्रियाएँ चलती रहती हैं। इन प्रतिक्रियाओं के माध्यम से हमारे शरीर में ऊर्जा उत्पन्न होती है जो कई कार्यों को करने में काम आती है। सामान्य शब्दों में, शरीर की चयापचय गतिविधियाँ हमें जीवित रहने में मदद करती हैं। जब हम खाना खाते हैं, तो खाने में मौजूद पोषक तत्व शरीर की आवश्यकता के लिए ऊर्जा उत्पन्न करने के लिए ईंधन के रूप में काम करते हैं। इस ऊर्जा का उपयोग सांस लेने, चलने, खाना पचाने और रक्त परिसंचरण में होता है, और हम कह सकते हैं कि शरीर के कुल विकास में भी इसका उपयोग होता है।

हमने पहले मेटाबोलिक रेट के बारे में बात की थी। उच्च मेटाबोलिक रेट इस संकेत करता है कि एक व्यक्ति विश्राम के दौरान अधिक कैलोरी जला सकता है, हालांकि कई कारकों का सीधा प्रभाव मेटाबोलिज्म पर पड़ता है, जिनमें शामिल हैं:

  • आयु
  • भोजन 
  • लिंग
  • शारीरिक बनावट
  • स्वास्थ्य स्थिति

जैसा कि पहले उल्लिखित किया गया है, ये सभी कारक, आपके शरीर के मेटाबोलिज्म में योगदान करते हैं। इसलिए, यदि आप सोच रहे हैं कि शरीर का मेटाबोलिज्म कैसे बढ़ाएं, तो आपको अपने मेटाबोलिज्म को बढ़ाने की कोशिश करने से पहले इन सभी कारकों पर विचार करना चाहिए।

 

फिट रहने और वजन कम करने के लिए अपने मेटाबोलिज्म को बढ़ाने के तरीके 

 

  • पर्याप्त पानी पीना

बाजार में उपलब्ध गैसयुक्त पेय बहुत अधिक मात्रा में शर्करा युक्त होते हैं, और हम आमतौर पर जब बाहर जाते हैं, तो हम इन्हें ही पीते हैं। इन मीठे पेय पदार्थों को पीने की बजाय, हमें केवल पानी पीने पर ही ध्यान केंद्रित करना चाहिए। पानी किसी भी अन्य पेय की तुलना में वजन को कम करने में अधिक मददगार सिद्ध होता है। जब आप पानी को गैसयुक्त मीठे पेय से बदलते हैं, तो कैलोरी की मात्रा आपके शरीर में स्वतः ही कम हो जाएगी। मानव शरीर में पर्याप्त मात्रा का पानी का सेवन मेटाबोलिज्म को बढ़ावा देता है। यदि आपका लक्ष्य वजन घटाना है, तो यह वजन कम करने में भी मदद करेगा।

और इसके अलावा, जब आप अपने आप को ज्यादा पानी पीने के लिए प्रोत्साहित करते हैं, तो आपका शरीर पानी को रोकने की कोशिश नहीं करता है। आपको यह ध्यान में रखना चाहिए कि निर्जलीकरण (dehydration) मेटाबोलिज्म को धीमा कर सकता है। इसीलिए, एक व्यक्ति को अपने शरीर को हाइड्रेटेड रखने के लिए 10 से 12 गिलास पानी हर दिन पीना चाहिए।

 

  • प्रतिरोधी प्रशिक्षण (Resistance Training) करना 

चर्बी जलाने की दर के साथ-साथ मानव शरीर में मेटाबोलिज्म की दर को बढ़ाने के लिए व्यायाम से बेहतर कोई तरीका नहीं है। आपको खुद को हाई-इंटेंसिटी इंटरवल ट्रेनिंग (HIIT) में शामिल करना चाहिए, जहां सभी व्यायाम अत्यधिक गहन होते हैं। यदि आपका शरीर अनुमति दे, तो आप इन व्यायामों को एक लंबे समय तक कर सकते हैं ताकि अधिक चर्बी जल सकें। यदि आप वजन कम करने का प्रयास कर रहे हैं, तो यह संभव है कि इस समय आपकी मेटाबोलिज्म दर कम हो जाएगी। इस दौरान, मेटाबोलिज्म में इस गिरावट का सामना करने के लिए जितना संभव हो सके उतना वजन उठाने का प्रयास करें। आपके शरीर की मांसपेशियां आपके शरीर में जमी चर्बी की तुलना में अधिक चयापचय रूप से सक्रिय होती हैं, इसलिए केवल वजन उठाकर मांसपेशियों को बनाने और कैलोरी जलाना अधिक महत्वपूर्ण होता है।

 

  • तनाव कम करना 

आज की दुनिया में लगभग हर मानव तनाव और तनाव संबंधित चिंता से ग्रसित है। आप अपने जीवन से तनाव को पूरी तरह से नहीं हटा सकते। तो आप जो कर सकते हैं, वह आपके जीवन से तनाव की मात्रा को कम करने के लिये आवश्यक कदम उठाना है। आप तनाव को नियंत्रित करने के कुछ तरीके अपना सकते हैं। अपने काम के बोझ को मैनेज करें और जब भी संभव हो, खुद के लिए थोड़ा समय निकालें। तनाव पर नियंत्रण करने के लिए आप ध्यान करने की कोशिश कर सकते हैं।

 

  • अपने नींद चक्र को नियमित रखें 

सोने के समय को बढ़ाने या कम करने से शरीर की मेटाबोलिज़्म पर सीधा प्रभाव नहीं पड़ता है, फिर भी यह एक व्यक्ति की भूख को प्रबंधित करने वाले हार्मोनों में का असंतुलन पैदा कर सकता है। नींद की कमी से एक व्यक्ति को मध्यरात्रि में भूख लगने लगती है, जिससे व्यक्ति सामान्य से अधिक चीनी का सेवन करता है, जिसके परिणामस्वरूप कैलोरी सेवन बढ़ सकता है। इसके अलावा, नींद की कमी रक्त शर्करा के स्तर में वृद्धि का एक प्राथमिक कारण होती है, जिससे टाइप 2 डायबिटीज का जोखिम भी बढ़ जाता है। इसलिए, रोज़ाना पर्याप्त नींद लेना हमेशा अपने शरीर की मेटाबोलिज़्म को बनाए रखने या सुधारने के लिए सबसे अच्छा कदम होता है।

 

निष्कर्ष 

 

अपने जीवनशैली में थोड़ा परंतु संबंधित बदलाव करें और अपने मेटाबोलिज़्म को बढ़ाने के लिए ऊपर दिए गए सभी सुझावों का पालन करें। यदि आपका लक्ष्य वजन कम करना है, तो अपने शरीर की मेटाबोलिज़्म को बढ़ाने से आपको वजन कम करने में मदद मिलेगी और यह आपको ऊर्जावान भी बनाए रखेगी।

 

This blog is a Hindi version of an English-written Blog - How to Increase Metabolism in Your Body Naturally?

Medanta Medical Team
Back to top