Facebook Twitter instagram Youtube
हरट-अटक-क-समनय-लक

हार्ट अटैक के सामान्य लक्षण जो आपको फ्लू के लक्षण के समान प्रतीत हो सकते हैं

हार्ट अटैक और फ्लू में संबंध 

 

इंफ्लुएंजा और हार्ट अटैक के बीच कोई संबंध नहीं होता है। इंफ्लुएंजा एक वायरल श्वसन संक्रमण है जो आपकी गले, नाक और फेफड़ों को प्रभावित करता है, जबकि हृदयघात एक हृदयरोग है जो व्यक्ति के ह्रदय में खून और ऑक्सीजन पहुंचाने वाली धमनियों में ब्लॉकेज के कारण होता है।

 

कुछ मामलों में हार्ट अटैक के लक्षण और इंफ्लुएंजा के लक्षणों में समानता हो सकती है। इसकी वजह से, जब फ्लू और हार्ट अटैक के लक्षण एक जैसे हो तो इनको पहचानना कठिन हो सकता है।

 

उदाहरण के लिए, ट्रायेज में एक मरीज में कोई हृदयरोग या कोलेस्ट्रॉल या किसी भी हृदयरोग के जोखिम कारक का कोई खास इतिहास नहीं था, लेकिन उसमें इंफ्लुएंजा जैसे लक्षण थे। और जांच के बाद, उसे हार्ट अटैक होने का निदान हुआ।

 

इसलिए, कई हृदयरोग विशेषज्ञ लोगों को यह चेतावनी देते हैं कि इंफ्लुएंजा के लक्षणों को नज़रअंदाज़ ना करें, ख़ासकर के जब वे अन्य हृदयरोग के लक्षणों के साथ हों।

 

ऐसे कौन से फ्लू के लक्षण हैं जो हार्ट अटैक से समानता रखते है?

 

मितली   -

जब आपको इंफ्लुएंजा या फ्लू होता है, तो आपको पाचन-संबंधी लक्षण जैसे उल्टी या मतली लक्षण महसूस हो सकते हैं। मतली के अलावा, फ्लू संक्रमण के कारण आपको तेज़ बुखार, सिरदर्द, चक्कर, मांसपेशियों में दर्द, गले में खराश, खांसी और थकान जैसे लक्षण भी महसूस हो सकते हैं। हार्ट अटैक के मामलों में मतली होना एक सामान्य लक्षण होता है, खासकर महिलाओं में। यह इसलिए होता है क्योंकि संक्रमित और  इन्फार्क्टेड हृदय के हिस्से से इस्केमिक, नेक्रोटिक और घायल ह्रदय की कोशिकाएँ लैक्टिक एसिड, पायरुविक एसिड और अन्य मेटाबोलाइट्स उत्पन्न करती हैं। इन तत्वों के कारण हृदय के इन्फार्क्टेड क्षेत्र के ऑटोमैटिक नर्व के सतही रिसेप्टर्स प्रभावित होते हैं जो कार्डियोजेनिक-प्रेरित मतली और उल्टी का कारण बनते हैं।

 

चक्कर महसूस होना 

हार्ट अटैक और स्ट्रोक के मामलों में चक्कर आना एक आम लक्षण है, हालाँकि, यह इन्फ्लूएंजा के सामान्य लक्षणों में से भी एक है। इंफ्लुएंजा के लक्षणों में ऊपरी श्वसनमार्ग के लक्षण भी दिखायी देते हैं। इंफ्लुएंजा से प्रभावित व्यक्ति थकान महसूस करता है। फ्लू के लक्षणों को बिना दवाई के घरेलू उपचार से नियंत्रित किया जा सकता है, लेकिन अगर आपको सिरदर्द आम फ्लू के मामले से अधिक असामान्य महसूस होता है और इसके साथ अन्य लक्षण भी उपस्थित हों, तो तुरंत उपचार के लिए डॉक्टर से परामर्श करना आवश्यक होता है। हृदयघात और फ्लू के लक्षणों को पहचानने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप हृदयघात के अन्य पहचाने जाने वाले लक्षण जैसे हाथ-पैर में सूजन, सांस की कमी, अत्यधिक थकान और सीने में दर्द पर नज़र रखें।

 

ठंड लगना और अधिक पसीना आना 

उचित तापमान के कमरे में रहते हुए भी ठंड लगना या अधिक पसीना आना हार्ट अटैक का संकेत हो सकता है। हालांकि, यह फ्लू का एक सामान्य लक्षण भी है, लेकिन यदि ठंड और अधिक पसीना अन्य हार्ट अटैक के लक्षणों जैसे सीने में दर्द, हृदय की धड़कनों में अस्थिरता और सांस की कमी के बाद लगभग तुरंत होते हैं, तो हृदयघात के होने की संभावनाएँ अधिक होती हैं। इस तरह के मामलों में आपको तुरंत चिकित्सा सहायता लेनी चाहिए। फ्लू के मामलों में ठंड और पसीना का आना बढ़ते और घटते हुए बुखार के साथ हो सकता है।

 

सांस लेने में परेशानी 

सामान्य फ्लू के मामलों में सांस की समस्या के लक्षण महसूस होने की संभावना कम होती है। हालांकि, कुछ गंभीर फ्लू संक्रमण के मामलों में सांस लेने में दिक़्क़त या सांस फूलने के साथ-साथ सीने में दर्द, चक्कर या मिर्गी की समस्या हो सकती है। अन्य हार्ट अटैक के लक्षणों के साथ, सांस में दिक़्क़त हार्ट अटैक के मामलों में भी एक महत्वपूर्ण संकेत होता है। आपको अगर यह लक्षण महसूस होता है, तो तुरंत अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

 

थकान

फटीग या थकने की भावना कई कारणों से हो सकती है। बिना कारण के थकान महसूस होने के पीछे सबसे महत्वपूर्ण कारणों में से एक हार्ट अटैक होता है। जब आपका हृदय सही ढंग से कार्य नहीं करता है और रक्त को पंप करने के लिए ह्रदय पर अतिरिक्त दबाव पड़ता है, तो थकान की स्थिति उत्पन्न होती है। वही दूसरी तरफ़ इंफ्लुएंजा के मामलों में थकान फ्लू का एक शुरुआती लक्षण होता है और तब होता है जब फ्लू के अन्य लक्षण आने शुरू नहीं हुए हो। अगर आपको हार्ट अटैक के अन्य लक्षणों के साथ अत्यधिक थकान का अनुभव हो रहा है तो तुरंत अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

 

निष्कर्ष 

 

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन (AHA) के अनुसार हार्ट अटैक या अन्य हृदय रोगों के जोखिम को रोकने का एक महत्वपूर्ण तरीक़ा अपने स्वास्थ्य व्यवहार पर पूर्ण नियंत्रण रखना और जोखिम कारकों को नियंत्रित करना होता है। आपके आहार की गुणवत्ता और इसके साथ ही शारीरिक गतिविधि, सिगरेट पीना, बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई), रक्तचाप, कोलेस्ट्रॉल और रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करना भी सबसे महत्वपूर्ण कारक होते हैं। 

 

अपने जीवनशैली को नियंत्रित रखने के अलावा, हार्ट अटैक के जोखिम कारकों के लिए नियमित रूप से अपनी जाँच करवाना भी महत्वपूर्ण कदम होता है। इसलिए नियमित अंतराल पर हृदय स्वास्थ्य जाँच करायें और अगर आपको कुछ लक्षण अनुभव हो रहे हो तो तुरंत अपने कार्डियोलॉजिस्ट से मिलें।

Medanta Medical Team
Back to top