Facebook Twitter instagram Youtube
यटरइन-फइबरयड-कय-ह-और-यह-आपक-शरर-क-कस-परभवत-करत-ह

यूटेराइन फाइब्रॉयड क्या हैं और यह आपके शरीर को कैसे प्रभावित करता है?

एक स्टडी के अनुसार सभी महिलाओं में से लगभग 70% महिलाओं को फाइब्रॉएड का अनुभव 50 वर्ष की आयु से पहले होने की संभावना अधिक होती है। हालाँकि, समय पर इसका निदान और उपचार होने पर यूटेराइन फाइब्रॉयड को प्रभावी ढंग से मैनेज किया जा सकता है। 

 

यूटेराइन फाइब्रॉयड क्या होते हैं?

 

यूटेराइन फाइब्रॉयड सबसे आम प्रकार के नोन-कैंसर ट्यूमर होते हैं जो गर्भाशय में या उसके आसपास पैदा होते हैं। इसे यूटेराइन मायोमा भी कहा जाता है, यह सिंगल ट्यूमर या गुच्छों के रूप में विकसित हो सकता है। 

 

यूटेराइन फाइब्रॉयड के प्रकार क्या हैं?

 

यूटेराइन फाइब्रॉयड आपके गर्भाशय की दीवारों के अंदर या बाहर वृद्धि कर सकता है। विकास के स्थान के आधार पर, यूटेराइन फाइब्रॉएड को निम्नलिखित तीन प्रकारों में विभाजित किया जा सकता है:

  • सबम्यूकोसल फाइब्रॉएड: ये गर्भाशय की कैविटी में बढ़ते हैं
  • इंट्राम्यूरल फाइब्रॉएड: ये गर्भाशय की दीवार के अंदर बढ़ते हैं
  • सब्सरोसल फाइब्रॉएड: ये गर्भाशय के बाहर बढ़ते हैं

कुछ फाइब्रॉयड मशरूम के आकार के होते हैं और गर्भाशय की सतह से या गर्भाशय की कैविटी में बढ़ सकते हैं। इन्हें पेडुंक्युलेटेड फाइब्रॉएड भी कहा जाता है।

 

यूटेराइन फाइब्रॉयड होने के क्या कारण होते हैं?

 

यूटेराइन फाइब्रॉयड के सटीक कारण अज्ञात हैं, परंतु कई कारक इसके होने के जोखिम को बढ़ाते हैं, जिनमें से मुख्य निम्न हैं:

 

हॉर्मोन - आपकी ओवरी दो हॉर्मोन, एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन, स्रावित करती है। ये हार्मोन आपके गर्भाशय की परत को प्रत्येक मासिक धर्म चक्र के दौरान रिजेनेरेट करने में मदद करते हैं, और फाइब्रॉएड के विकास का कारण भी बन सकते हैं।

 

आनुवंशिकी - यदि आपके करीबी पारिवारिक सदस्य को यूटेराइन फाइब्रॉएड की समस्या है, तो आपको भी फाइब्रॉएड होने की बहुत अधिक संभावना है।

 

प्रेगनेंसी - गर्भावस्था के दौरान आपका गर्भाशय अधिक मात्रा में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन का उत्पादन करता है। इसीलिए जब आप गर्भवती हों तो फाइब्रॉएड का तेजी से विकास होने की संभावना अधिक हो सकती है।

 

मोटापा - कुछ अध्ययनों के अनुसार अधिक वजन या मोटापा भी यूटेराइन फाइब्रॉएड बनने के लिए एक महत्वपूर्ण कारक हो सकता है।

 

यूटेराइन फाइब्रॉयड के क्या लक्षण हैं?

 

आमतौर पर एक अल्ट्रासाउंड द्वारा यूटेराइन फाइब्रॉयड का पता चल सकता है। यदि आपको निम्न में से किसी भी लक्षण का अनुभव होता है, तो तुरंत अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ से परामर्श करें:

  • भारी रक्तस्राव या दर्दनाक मासिकधर्म 
  • पीरियड्स के बीच में रक्तस्राव होना
  • आपके निचले पेट में दबाव, दर्द या परिपूर्णता का अनुभव होना 
  • बढ़ा हुआ पेट या गर्भाशय
  • कब्ज़
  • अक्सर पेशाब करने की तीव्र इच्छा या मूत्राशय को पूरा खाली करने में परेशानी महसूस होना 
  • सेक्स करते समय दर्द होना
  • गर्भपात या बांझपन

 

यूटेराइन फाइब्रॉयड आपके शरीर और मानसिकता को कैसे प्रभावित करते हैं?

 

यूटेराइन फाइब्रॉएड के भावनात्मक प्रभाव पर 2014 में हुए एक अध्ययन में, नॉर्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी के फीनबर्ग स्कूल ऑफ मेडिसिन के शोधकर्ताओं ने पाया कि यूटेराइन फाइब्रॉएड से ग्रसित महिलाएँ केवल शारीरिक परेशानी से गुजरती हैं, बल्कि उनमें अवसाद होने की संभावना भी अधिक होती है। बहुत सी महिलाएँ शरीर की समस्याओं  और अपने साथी के साथ असुरक्षा की भावना के कारण नकारात्मक आत्म-छवि रखती हैं।

 

भारत में महिलाओं के प्रजनन स्वास्थ्य से जुड़े लांछन की वजह से महिलाएँ अपनी स्वास्थ्य समस्या को तब तक छुपाती हैं जब तक कि वे कई तरह की गंभीर चिकित्सीय जटिलताओं में ना बदल जाये। किसी भी प्रजनन स्वास्थ्य संबंधित गंभीर परिणाम से बचने के लिए पैल्विक दर्द, गंदा डिस्चार्ज, और अनियमित रक्तस्राव जैसे लक्षणों का सही ढंग से और समय पर जाँच करने की आवश्यकता होती है।

 

यूटेराइन फाइब्रॉयड का उपचार कैसे किया जाता है?

 

यूटेराइन फाइब्रॉएड के कारण महिलाओं को भारी पीरियड्स और पैल्विक दर्द का अनुभव हो सकता है। जब उपचार आवश्यक होता है, तब आपका डॉक्टर आपके यूटेराइन फाइब्रॉएड के आकार, संख्या, स्थान और लक्षणों की गंभीरता के आधार पर दवाइयाँ या सर्जरी का सुझाव देगा।

 

दवाइयाँ  - यूटेराइन फाइब्रॉएड के निदान के बाद डॉक्टर सर्वप्रथम उपचार दवा लिखते हैं, जो शरीर को कम एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन हॉर्मोन उत्पादन करने के लिए ट्रिगर करते हैं, जिसके परिणामस्वरूप फाइब्रॉएड सिकुड़ने लग जाता है। यह दवा आपकी प्रजनन क्षमता को प्रभावित किए बिना आपके पीरियड्स को रोक देती है। इसके कारण आपको कुछ लक्षण जैसे हॉट फ्लैशेज, अधिक पसीना आना, योनि का सूखापन और ऑस्टियोपोरोसिस के बढ़ते जोखिम महसूस हो सकते हैं।

 

सर्जरी  - यदि आपके यूटेराइन फाइब्रॉएड की स्थिति गंभीर है तो केवल दवाइयों से उपचार संभव नहीं हैं। आपका डॉक्टर तब आपके गर्भाशय से फाइब्रॉएड को कम करने हा हटाने के लिए विभिन्न सर्जरी का सुझाव दे सकता है।

 

हिस्टेरेक्टॉमी  - हिस्टेरेक्टॉमी बड़े फाइब्रॉएड को हटाने के लिए यूटरस का पूर्ण या आंशिक हटाना है। प्रसिद्ध सितार वादक अनुष्का शंकर ने 2019 में हिस्टेरेक्टॉमी के माध्यम से अपने कई फाइब्रॉएड का इलाज़ करवाया था। इस शल्य प्रक्रिया के दुष्परिणामों में कम कामेच्छा (सेक्स ड्राइव) और समय से पहले रजोनिवृत्ति शामिल हो सकती है।

 

मायोमेक्टॉमी - मायोमेक्टॉमी प्रक्रिया द्वारा डॉक्टर आपके गर्भाशय की मांसपेशियों की दीवार से फाइब्रॉएड को हटाते हैं। जो महिलायें बच्चा पैदा करना चाहती है, उनमें यह प्रक्रिया एक उपयुक्त उपचार विकल्प होता है। 

 

एंडोमेट्रियल एब्लेशन - एंडोमेट्रियल एब्लेशन प्रक्रिया में आपके गर्भ के अंदर की परत को हटाया जाता है, और अक्सर इस प्रक्रिया को  हिस्टेरेक्टॉमी के प्रभावी विकल्प के रूप में उपयोग में लिया जाता है। 

 

कई अन्य शल्य चिकित्सा प्रक्रियाएँ जैसे यूटेराइन आर्टरी एम्बोलिज़ेशन (यूएई) और एमआरआई-निर्देशित केंद्रित अल्ट्रासाउंड सर्जरी आपके गर्भाशय से फाइब्रॉएड को कम या हटा सकती हैं।

 

यूटेराइन फाइब्रॉएड की क्या जटिलताएँ हो सकती हैं?

आमतौर पर यदि फाइब्रॉएड का समय पर पता चल जाये तो इसका उपचार और नियंत्रण किया जा सकता है। लेकिन फिर भी कुछ जटिलताएँ उत्पन्न हो सकती हैं, जैसे कि:

  • भारी मासिक धर्म, जिसे मेनोरेजिया भी कहा जाता है
  • पेट दर्द और कब्ज
  • गर्भावस्था-संबंधित समस्याएँ जैसे समय से पहले जन्म या गर्भपात
  • बांझपन
  • लेयोमायोसरकोमा, एक दुर्लभ कैंसर

 

हालाँकि, यूटेराइन फाइब्रॉएड को रोकने का कोई सटीक वैज्ञानिक तरीक़ा नहीं है, परंतु संपूर्ण खाद्य पदार्थों और सब्जियों युक्त स्वस्थ आहार खाना, स्वस्थ वजन बनाए रखना और दैनिक व्यायाम करना आपको स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है।

Medanta Medical Team
Back to top