Facebook Twitter instagram Youtube
अपडसइटस-क-लए-डक

अपेंडिसाइटिस के लिए डॉक्टर से मिलना क्यों महत्वपूर्ण है?

अपेंडिसाइटिस स्थिति तब होती है जब आपके अपेंडिक्स, बड़े आंत के किनारे पर उपस्थित एक उंगली के आकार वाला अंग, में संक्रमण या सूजन जाती है। अपेंडिक्स पेट के निचले दाहिने कोने में स्थित होता है।

 

हालांकि अपेंडिसाइटिस एक सामान्य स्थिति होती है और उसे आसानी से ठीक किया जा सकता है, लेकिन अगर समय पर इसका इलाज नहीं किया जाता है तो यह समस्या को गंभीर बना सकता है। अपेंडिसाइटिस के इलाज में तब समस्याएँ उत्पन्न हो सकती हैं जब मरीज अपने लक्षणों को पेट की परेशानी या किसी अन्य पाचनतंत्र संबंधी बीमारी समझकर अस्पताल जाने की देरी करते हैं।

 

अपेंडिसाइटिस के कारण व्यक्ति के निचले दाहिने पेट के क्षेत्र में दर्द हो सकता है जहां पर यह मौजूद होता है। अधिकांश मामलों में, यह दर्द व्यक्ति की नाभि के आस-पास के क्षेत्र से शुरू होता है और समय के साथ धीरे-धीरे दाहिने हाथ की ओर बढ़ता जाता है। समय के साथ, अपेंडिसाइटिस का दर्द बहुत तेज हो सकता है।

 

अपेंडिसाइटिस का क्या कारण होता है? 

 

किसी व्यक्ति में अपेंडिसाइटिस तब उत्पन्न होता है जब अपेंडिक्स में किसी रुकावट (सामान्यतः मल, अन्य उत्पाद, दूसरे संक्रमण या कैंसर) के परिणामस्वरूप सूजन और उसके बाद संक्रमण हो जाता है। संक्रमण के दौरान, बैक्टीरिया तेजी से वृद्धि कर सकते हैं, जिससे अपेंडिक्स में क्षति हो सकती है जिसके कारण इसमें पस बन सकता है। बिना उपचार के अपेंडिसाइटिस के कारण अपेंडिक्स फट सकता है।

 

अपेंडिसाइटिस किसी को कभी भी प्रभावित कर सकता है, हालांकि यह अधिकांशतः 10 से 30 वर्ष की आयु के व्यक्तियों में सामान्य समस्या होती है।

 

अपेंडिसाइटिस के लक्षणों की पहचान कैसे की जाती है?

 

इन लक्षणों के बारे में जानकारी होना महत्वपूर्ण है क्योंकि वे लक्षण हल्के रूप में प्रारंभ होते हैं और समय के साथ तीव्र होते जाते हैं। आपको निम्नलिखित लक्षणों का ध्यान रखना चाहिए:

  • नाभि के आसपास दर्द शुरू होता है और एक दिन से कम समय में ही यह पेट के निचले दाहिने हिस्से में स्थानांतरित हो जाता है।
  • पेट के निचले दाहिने हिस्से में तेज़ दर्द होना 
  • खांसी, चलने या अन्य गतिविधियों के साथ दर्द बढ़ जाना 
  • मतली और उल्टी आना 
  • भूख में कमी होना
  • बुखार, जो बीमारी बढ़ने के साथ बढ़ता है
  • कब्ज या दस्त
  • पेट में फुलाव महसूस होना 
  • गंभीर क्रैम्प महसूस होना 
  • पेशाब करने में दर्द होना 

कभी-कभी, अपेंडिक्स की आपके पेट में जगह के आधार पर आपको पेट में थोड़ा ऊपर दर्द महसूस हो सकता है। उदाहरण के लिए, गर्भवती महिलाओं में, अपेंडिसाइटिस का दर्द पेट के ऊपरी हिस्से से शुरू हो सकता है क्योंकि अपेंडिक्स गर्भावस्था के दौरान थोड़ा ऊँचा हो जाता है।

 

अगर आपको लगता है कि आपको अपेंडिसाइटिस के लक्षण दिख रहे हैं, तो दर्दनाशक दवाओं, एंटासिड, लैक्सेटिव या हीटिंग पैड का उपयोग करने से बचें, क्योंकि इनके उपयोग से अपेंडिक्स फट सकता है।

 

हालाँकि ये लक्षण पाचन तंत्र को प्रभावित करने वाली अन्य बीमारियों के हो सकते हैं, फिर भी सतर्क रहना और देर करते हुए तुरंत एक डॉक्टर से मिलना चाहिए।

 

अपेंडिसाइटिस से होने वाले दुष्परिणाम 

 

यदि इसका समय पर उपचार नहीं किया जाए, तो अपेंडिसाइटिस कई गंभीर समस्याओं का कारण बन सकता है जो जानलेवा साबित हो सकती है। इस स्थिति में समय पर एक इमरजेंसी रूम में पहुंचना आवश्यक होता है, खासकर जब आपके लक्षण बिगड़ रहें हों तो। आपको निम्नलिखित समस्याएँ हो सकती हैं:

  • अपेंडिक्स का फटना: जब आपका अपेंडिक्स फट जाता है, तो संक्रमण आपके पेट के बाकी क्षेत्र में फैल सकता है। यह स्थिति खतरनाक हो सकती है और यदि तत्काल सर्जरी और एंटीबायोटिक्स के माध्यम से इसका इलाज नहीं किया जाए, तो यह जानलेवा हो सकती है।
  • पेट में पस बनना: अपेंडिसाइटिस पेट में ऐब्सेस या दर्दनाक पस बनने की वजह हो सकता है। यह पस फिर आपके पेट के अंदर फैल सकता है।

 

यदि आपको अपेंडिसाइटिस की समस्या हो जाती है, तो आपके डॉक्टर आमतौर पर अपेंडेक्टमी की सिफारिश करते हैं, जो अपेंडिक्स को हटाने के लिए सर्जरी है। इसके लिए, वे पेट में चीरा लगाते है, जिसके माध्यम से सर्जिकल यंत्रों को पेट में डाला जाता है और आपका अपेंडिक्स उस चीरे से निकाला जाता है। अगर अपेंडिक्स फट गया है या यदि अपेंडिक्स तक पहुंचना मुश्किल हो जाता है, तो पेट की ओपन सर्जरी की सिफारिश की जाती है।

 

ऐब्सेस का इलाज करने के लिए, डॉक्टर उसे पेट की दीवार से जाने वाली एक ट्यूब के माध्यम से बाहर निकलते हैं। यह ट्यूब लगभग दो हफ्ते तक रखा जाता है जब तक सभी पस बाहर ना निकल जाए। आपको संक्रमण के खिलाफ लड़ने में मदद के लिए डॉक्टर प्रारंभ में एंटीबायोटिक्स देंगे। संक्रमण ठीक हो जाने के बाद, अपेंडिक्स को हटाने के लिए सर्जरी की जाती है। 

 

सर्जरी के बाद रिकवरी में आपको कुछ हफ्ते का समय लगेगा और इस दौरान आपको कुछ समय तक थकाने वाले कार्य और भार उठाने से बचना होगा।

Medanta Medical Team
Back to top